कारोबार

सस्टेनेबल कृषि को बढ़ावा देने के लिए UPL ने किया GB पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के साथ समझौता

किसानों की बेहतरी के लिए जैविक समाधान विकसित करने का लक्ष्य

मुंबई – सस्टेनेबल कृषि उत्पादों और समाधानों की ग्लोबल प्रोवाइडर कंपनी यूपीएल लिमिटेड UPL ने किसानों के लिए सस्टेनेबल कृषि को बढ़ावा देने के उद्देश्य के साथ जीबी पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।

अपनी फार्मर फर्स्ट’ एप्रोच के अनुसार कदम उठाते हुए यूपीएल UPL ने विश्वविद्यालय के साथ यह समझौता किया है। इस कार्यक्रम में डॉ. आर.एस. चौहान (माननीय कुलपतिकार्यवाहक)डॉ. ए.एस. नैन (डायरेक्टर रिसर्च)विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का पैनल और यूपीएल से श्री राहुल पांडे (कॉमर्शियल हैडइंडिया)श्री रवि हेगड़े (रीजन आर एंड डी हैड) और डॉ शिखा जोशी (मैनेजररेग्युलेटरी) भी शामिल हुए।

समझौता ज्ञापन का उद्देश्य पारस्परिक रूप से सहमत क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास की सुविधा प्रदान करना और सुरक्षित उपयोग प्रशिक्षण प्रदान करके उत्पाद प्रबंधन के क्षेत्र में संयुक्त रूप से काम करना है। यूपीएल ड्रोन टैक्नोलॉजी के विकास पर विश्वविद्यालय के साथ सहयोग करेगा और विश्वविद्यालय के छात्रों को छात्रवृत्ति भी प्रदान करेगा।

भारत के पहले कृषि विश्वविद्यालय जी.बी. GB पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने बायोलॉजिकल्स के क्षेत्र में काम किया है। यूपीएल संयुक्त रूप से किसानों को इन तकनीकों को उपलब्ध कराने के रास्ते तलाशने के लिए सहयोग करेगा। सहयोग का उद्देश्य फसल पर जैविक और अजैविक दबाव को कम करने के लिए जैव समाधान के क्षेत्र में अनुसंधान को मजबूत करना है। जैविक और अजैविक दबाव के कारण फसल को काफी नुकसान होता है।

श्री राहुल पांडे – हेड कॉमर्शियल एंड मार्केटिंगयूपीएल ने कहा, ‘‘यूपीएल में हम अपने प्राथमिक हितधारकोंकिसानों की सफलता और उनकी बेहतरी के लिए समर्पित हैं। हमें विश्वास है कि विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी करकेहम किसानों को सस्टेनेबल प्रोडक्ट प्रदान करने में सक्षम होंगेजिसमें अत्याधुनिक तकनीक शामिल होगीजिससे वे अपनी उत्पादकता और लाभप्रदता बढ़ा सकेंगे। यह सहयोग यूपीएल के ओपन एजी उद्देश्य के प्रति हमारे समर्पण को प्रदर्शित करता है।’’

डॉ. ए.एस. नैनडायरेक्टर रिसर्चजी.बी. पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने कहा, ‘‘हम खुश हैं कि दोनों संगठनों ने एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। हमारा मानना है कि इस संबंध से नई तकनीक और समाधान मुहैया कराकर किसानों को काफी फायदा होगा। हम प्रबंधन प्रशिक्षण प्रदान करने और छात्रवृत्ति के साथ छात्रों का समर्थन करने के लिए यूपीएल की रुचि के लिए भी अपना आभार व्यक्त करना पसंद करते हैं।

माननीय कुलपति ने सहयोग की सफलता के लिए अपनी हार्दिक शुभकामनाएं दीं।

Related Articles

Back to top button