छत्तीसगढ़प्रदेश
Trending

जिला पंचायत अध्यक्ष ने मामले की गंभीरता को देखते हुए की कार्यवाही, हटाये गए एसडीएम के प्रिय अधीक्षक

दन्तेवाड़ा / गीदम – एकलव्य खेल परिसर जावंगा के अधीक्षक प्रकाश गुप्ता की शिकायत लेकर आज युवा खिलाड़ियों का एक दल जिला पंचायत अध्यक्ष तूलिका कर्मा से मिलने पहुंचा सुबह की गयी शिकायत पर कार्यवाही करते हुए जिपं अध्यक्ष ने शाम तक हटाया अधीक्षक को। पहले भी छात्रों द्वारा की जा चुकी थी शिकायत परंतु राजनीतिक रसूख व अधिकारियों की चापलूसी के चलते नही हुई कोई कार्यवाही।
 
एकलव्य खेल परिसर जावंगा के अधीक्षक प्रकाश गुप्ता की शिकायत लेकर आज युवा खिलाड़ियों का एक दल जिला पंचायत अध्यक्ष से मिलने पहुंचा। खिलाड़ियों ने जिपं अध्यक्ष को बताया कि अधीक्षक प्रकाश गुप्ता लगातार खिलाड़ियों से दुर्व्यवहार करते हैं। हॉस्टल में रहने वालों सभी खिलाड़ियों को बासी खाना, जातिगत टिप्पणी भी करते हैं। खिलाड़ियों की शिकायत पर जिला पंचायत अध्यक्ष ने त्वरित कार्यवाही करते हुए इस मामले की जानकारी एसडीएम अविनाश मिश्रा को दी। उक्त प्रकरण में कार्रवाई करते एसडीएम ने भारी मन से ही सही आखिरकार तत्काल अधीक्षक प्रकाश गुप्ता को एकलव्य खेल परिसर जावंगा से हटा दिया प्रकाश गुप्ता को हटाए जाने पर एकलव्य खेल परिसर जावंगा के खिलाड़ियों ने जिला पंचायत अध्यक्ष तुलिका कर्मा का आभार भी माना है। आपको बता दें कि इसके पहलेे भी कई बार प्रकाश गुप्ता की इसी तरह की शिकायत की जा चुकी है परंतु अधिकारियों के संरक्षण के चलते आज तक कोई कार्यवाही नही हुई।

इतना ही नही खेल परिसर के आवास में अन्य महिला के साथ भी पकड़ाए थे प्रकाश गुप्ता, पत्नी ममता गुप्ता पुलिस लेकर मौके पर पहुंची थी जिसके बाद इस मामले को लेकर एसडीएम अविनाश मिश्रा को शिकायत भी की गई परंतु एसडीएम साहब ने अपने प्रिय अधीक्षक के ऊपर मेहरबानी दिखाते हुए जांच के नाम पर खानापूर्ति करते हुए मामले को दबा दिया गया। यही नही मामले को खत्म करने एसडीएम ने एक बैठक का आयोजन किया जिसमें पीड़ित पत्नी सहित महिला सखी केंद्र की अधिकारी सामाजिक कार्यकर्ता भी मौजूद थे बातचीत में एसडीएम साहब ने खेल परिसर में अन्य महिला के साथ खेल अधीक्षक का पाया जाने पर बचाव करते हुए सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का हवाला देते हुए लिव इन रिलेशनशिप का मामला बताया लेकिन उस वक्त साहब भूल गए कि शादी शुदा व्यक्ति बिना अपनी पत्नी से तलाक लिए दूसरी महिला के साथ कानूनन नही रह सकता। साथ ही एसडीएम ने ये भी कहा कि किसी किताब में नही लिखा है कि हास्टल में अन्य महिला के साथ नही रह सकते। जबकि घटना के समय हास्टल के नोडल अधिकारी सतीश श्रीवास्तव ने मीडिया को दिए गए बयान में साफ साफ कहा कि होस्टल में किसी भी महिला को रखना नियमो का उलंघन है। बावजूद इसके एसडीएम द्वारा कार्यवाही नही किया जाना कई सवाल खड़े करता है। यही नही खेल परिसर में खेल सामग्री खरीदी को लेकर भी लोगो द्वारा सवाल उठाए जा रहे है। इस मामले में सामाजिक कार्यकर्ता राहुल सेन ने भी सूचना के अधिकार के तहत जवाब मांगा है। राहुल की माने तो खेल अधीक्षक व अधिकारियों की मिली भगत के चलते खेल सामग्री खरीदी में भी अनियमितता की शिकायत मिली है जिसकी जांच की जानी चाहिए राहुल के मुताबिक एसडीएम अविनाश मिश्रा द्वारा एक खेल अधीक्षक पर इतनी मेहरबानी गले नही उतर रही है।

जिला पंचायत अध्यक्ष ने मामले की गंभीरता को देखते हुए की कार्यवाही, हटाये गए एसडीएम के प्रिय अधीक्षक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button