राष्ट्रीय
Trending

amazon और Flipkart की याचिका पर विचार करने से Supreme Court का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को ई-कॉमर्स दिग्गज अमेजॉन और फ्लिपकार्ट (Amazon &flipkard) की उस याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें कहा गया था कि उन्हें भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) द्वारा प्रतिस्पर्धा-विरोधी गतिविधियों के लिए जांच का सामना करना होगा. मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमन्ना और न्यायमूर्ति विनीत सरन और सूर्यकांत की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “आप (फ्लिपकार्ट और अमेजॉन) जैसे बड़े संगठनों को जांच के लिए स्वेच्छा से आगे आना चाहिए .. जांच की जानी चाहिए.”पीठ ने कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेशों में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया, जिसने सीसीआई द्वारा उनकी कथित प्रतिस्पर्धा-विरोधी कार्यो में प्रारंभिक जांच के आदेश में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया था.

शीर्ष अदालत ने इस बात पर जोर दिया कि सीसीआई की जांच जारी रहनी चाहिए. हालांकि, अदालत ने सीसीआई को जवाब देने के लिए कंपनियों के लिए समय बढ़ाने के वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी द्वारा किए गए अनुरोध को स्वीकार कर लिया. कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए ई-कॉमर्स कंपनियों ने शीर्ष अदालत का रुख किया था. पीठ ने कहा कि उसे उच्च न्यायालय के आदेश में हस्तक्षेप करने का कोई कारण नहीं दिखता है, और समय 9 अगस्त को समाप्त हो रहा है, इसलिए ‘हम इसे 4 सप्ताह तक बढ़ाते हैं।’ 23 जुलाई को, कर्नाटक उच्च न्यायालय ने प्रतिस्पर्धा कानून के कथित उल्लंघन के लिए सीसीआई द्वारा शुरू की गई जांच के खिलाफ अमेजॉन और फ्लिपकार्ट की याचिका को खारिज कर दिया था.

न्यायमूर्ति सतीश चंद्र शर्मा और न्यायमूर्ति नटराज रंगास्वामी की खंडपीठ ने उच्च न्यायालय के एकल न्यायाधीश द्वारा पारित 11 जून के आदेश को चुनौती देने वाली ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा दायर अपीलों के एक समूह पर यह आदेश पारित किया. पीठ ने कहा कि इस स्तर पर जांच को किसी भी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है और अपीलकर्ताओं को सीसीआई द्वारा जांच से डरना नहीं चाहिए. पीठ ने कहा, “अदालत की सुविचारित राय में, अपीलकर्ताओं द्वारा दायर अपील योग्यता से रहित है और खारिज करने योग्य है.” अमेजॉन ने सीसीआई के एक आदेश के खिलाफ कर्नाटक उच्च न्यायालय का रुख किया था, जिसने उसके प्लेटफॉर्म पर स्मार्टफोन की ऑनलाइन बिक्री में प्रतिस्पर्धा-विरोधी आचरण के आरोपों की एक महानिदेशक (डीजी) स्तर की जांच का आह्वान किया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button