छत्तीसगढ़
Trending

Jaideep Foundation द्वारा आयोजित “महिला स्वतंत्रता एवं कानूनी अधिकार” संगोष्ठी कार्यक्रम संपन्न

रायपुर : सामाजिक संस्था जयदीप फाउंडेशन (Jaideep Foundation) द्वारा “महिलाओ की स्वतंत्रता एवं कानूनी अधिकार” (Women’s Freedom and Legal Rights) विषय पर संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया था उक्त कार्यक्रम की मुख्य अतिथि श्रीमती प्रतिभा श्रीवास्तव – महिला थाना रायपुर , विशेष अतिथि श्रीमती सीता मौले – अधिवक्ता, विशेष अतिथि डॉ. रानु शारदा – शासकीय पशु चिकित्सा अधिकारी रायपुर की गरिमामय उपस्तिथि मे संपन्न हुआ। जयदीप फाउंडेशन (Jaideep Foundation) द्वारा आयोजित “महिलाओ की स्वतंत्रता एवं कानूनी अधिकार” (Women’s Freedom and Legal Rights)के विषय मे संगोष्ठी कार्यक्रम मे सैकड़ों की संख्या मे महिलाये उपस्तिथ थी। जयदीप फाउंडेशन (Jaideep Foundation) की अध्यक्ष भारती साहू के नेतृत्व मे संस्था के पदाधिकारियों ने कार्यक्रम मे उपस्तिथ मुख्य अतिथि और विशेष अतिथियों को स्मृति चिन्ह कार्यक्रम का शुभारंभ किया.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्रीमती प्रतिभा श्रीवास्तव ने कहा है कि महिलाओ को कई प्रकार से प्रताड़ित किया जाता है जिसमे घरेलू हिंसा, मानसिक हिंसा के भी उदाहरण है ऐसे मे महिलाओ को प्रताड़ित नहीं होना चाहिए उनपे हो रहे कोई भी हिंसा को उन्हे सहन नहीं करना चाहिए बल्कि उसके लिए आवाज़ उठानी चाहिए और अपने साथ हो रही हिंसा का पुरजोर विरोध करना चाहिए और साथ ही माँ बाप को भी बेटी की शादी के बाद उसके शीदा शुदा जीवन मे अनावश्यक हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। माँ बाप द्वारा भी बच्चियों को सही और गलत का ज्ञान देना चाहिए , महिलाओ के उत्थान के क्षेत्र मे सरकार भी कई कार्य कर रही है जिसमे महिला उत्पीड़न जैसे मामलों मे शिकायत हेतु महिला थाना, सखी सेंटर, बच्चों के सहायता के लिए चाइल्ड हेल्प लाईन जैसे आदि संस्थाएं कार्यरत है.

कार्यक्रम को आगे संबोधित करते हुए अधिवक्ता श्रीमती सीता मौले ने कहा है कि भारतीय संविधान द्वारा महिलाओ को उनके हक के कई अधिकार दिए गए है जिनका महिलाओ को पूर्ण रूप से ज्ञान नहीं है जिस कारण वे लोग प्रताड़ना के शिकार हो रहे है और अपने हक को वे समझ नहीं पा रहे है और साथ ही न्यायालीन प्रक्रिया के तहत अधिकतर महिलायें कोर्ट जाने मे संकोच करती है जिस कारण वे अपना हक और अधिकार पाने मे असमर्थ रहती है ऐसे मे महिलओ को अपना हक और अधिकार जानना और उसके लिए सजग रहना जरूरी है. आजादी के 64 वर्षों के पश्चात हम यदि कानूनी दृष्टिकोण से नारी के प्रति अपराधों को रोकने के लिए बनाये गये अधिनियमों की विवेचना करते हैं तो स्पष्ट परिलक्षित होता है कि हमारे देश में नारी की गरिमामयी स्थिति को बनाये रखने के लिए बहुत सारे कानून बनाये गये हैं। किन्तु पर्याप्त कानूनी शिक्षा के अभाव में कानूनों की जानकारी उनकों नहीं मिल पाती, यहाँ तक कि अधिकांश महिलाओं को पता ही नहीं हो पाता कि उनके कौन कौन से अधिकार प्राप्त हैं.

Jaideep Foundation

कार्यक्रम को आगे संबोधित करते हुए डॉ. रानु शारदा ने कहा है कि माता पिता द्वारा अपने बच्चियों को शिक्षा देने मे पूरी जिम्मेदारी निभानी चाहिए उन्हे पढ़ाना चाहिए तभी तो वे सामाजिक और शैक्षणिक दृष्टिकोण से सफल हो पाएगी और क्षेत्र मे उचित स्थान ग्रहण कर पाएगी शिक्षा के माध्यम से उनका आत्मबल और मनोबल बढ़ेगा जो अपने आप को मजबूत करने के लिए जरूरी है शिक्षा के माध्यम से ही महिलायें संविधान द्वारा दिए गए अपने हक और अधिकारों को जान अपने लिए आवाज़ उठा सकेगी

कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था की अध्यक्ष भारती साहू ने किया, कार्यक्रम का संचालन सचिव सावित्री साहू और कार्यक्रम का समापन कोषाध्यक्ष प्रतिभा गजभिये ने किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button