छत्तीसगढ़
Trending

Raipur: खैरागढ़ में कांग्रेस के घोषणा पत्र से भाजपा में बेचैनी और भगदड़-कांग्रेस

Raipur। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि खैरागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस के द्वारा जारी किये गये घोषणा पत्र से भारतीय जनता पार्टी में बेचैनी और भगदड़ की स्थिति बन गयी है। कांग्रेस के घोषणा पत्र के जारी होने के बाद से ही भाजपा समर्पण की मुद्रा में आ गयी है। खैरागढ़ की जनता कांग्रेस के घोषणा पत्र को गंभीरता से ले रही है। उसे मालूम है कि कांग्रेस जो कहती है वह करती है।

2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने जन घोषणा पत्र में जो वायदा किया था कांग्रेस की सरकार ने 90 प्रतिशत वायदों को मात्र सवा तीन साल में पूरा कर दिया है। खैरागढ़ की जनता को भरोसा है उपचुनाव में कांग्रेस ने वायदा किया है कि कांग्रेस प्रत्याशी यशोदा वर्मा के चुनाव जीतने के 24 घंटे के अंदर खैरागढ़ छुईखदान गंडई जिला बना दिया जायेगा तो कांग्रेस पार्टी इस वायदे को जरूर पूरा करेगी।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि स्व. देवव्रत सिंह भाजपा से नफरत करते थे। उन्होंने कहा था मेरे डीएनए में कांग्रेस है। उन्होंने मरवाही चुनाव में भाजपा को समर्थन देने के लिये छजकां से दूरियां बना लिया था। स्व. देवव्रत के अनुरोध पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खैरागढ़ विधानसभा के लिये 600 करोड़ से अधिक के विकास कार्य स्वीकृत किया था जो रमन सिंह ने 15 साल तक नहीं किया। खैरागढ़ को लेकर भाजपा के पास कोई विजन नहीं है और न ही भाजपा की विश्वसनीयता बची है।

कांग्रेस के घोषणा पत्र पर सवाल खड़ा करने वाले रमन सिंह बतायें कि 15 साल मुख्यमंत्री रहने के दौरान उन्होंने खैरागढ़ के लिये क्या किया? भाजपा के पास भी खैरागढ़ को जिला बनाने का अवसर 15 साल तक था लेकिन रमन सिंह ने खैरागढ़ को जिला नहीं बनाया। भाजपा चाहती तो साल्हेवारा और जालबांधा को तहसील बना सकती थी भाजपा ने नहीं बनाया उनकी नीयत नहीं थी। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद 15 सालों तक भाजपा की सरकार रहने का नुकसान खैरागढ़ सहित छत्तीसगढ़ की जनता को उठाना पड़ा है। सत्ता के विकेंद्रीयकरण के जिन उद्देश्यों को लेकर नये राज्य का गठन हुआ भाजपा ने 15 साल तक उसी को रोके रखा। कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इसीलिये नये जिलों और तहसीलों का गठन किया जा रहा है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि खैरागढ़ ही नहीं छत्तीसगढ़ की जनता अब भाजपा के पंद्रह साल बनाम कांग्रेस के सवा तीन साल की तुलना करने लगी है। 15 साल तक भाजपा ने जनता को सिर्फ ठगा और धोखा दिया। न किसान को धान का मूल्य 2100 दिया और न ही 300 रू. बोनस दिया। कांग्रेस ने जो कहा वह किया। लोगों को यह दिख रहा कि कांग्रेस ने किसानों का कर्जा माफ किया, किसानों का धान 2500 में खरीदा जा रहा, किसानों के धान की अंतर राशि के भुगतान के लिये राजीव गांधी किसान न्याय योजना चलाई जा रही, भूमिहीन तथा कृषि मजदूरों और पौनी पसारी काम करने वालों के लिए कांग्रेस सरकार न्याय योजना चला रही है।

तेंदूपत्ता संग्राहकों को मानदेय कांग्रेस सरकार ने 2500 से बढ़ाकर 4000 कर दिया। 400 यूनिट तक बिजली बिल आधा किया गया। पिछले तीन साल में भूपेश सरकार ने 5 साल युवाओं के लिये नौकरी रोजगार की व्यवस्था की, सरकारी नौकरियों के द्वारा युवाओं के लिये खोले गये। गोधन न्याय योजना, नरवा, गरूवा, घुरवा बाड़ी योजना, स्वामी आत्मानंद विद्यालय, दाई दीदी क्लिनिक, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, हाट बाजार क्लिनिक से प्रदेश की तस्वीर बदल रही है।

Advertisement

Subscribe & Support Us!

‘द मूकनायक’ जनवादी पत्रकारिता करता है. यह संविधान, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय पर चलने वाला चैनल है. अगर आप भी चाहते हैं कि ‘द मूकनायक’ हमेशा हाशिए पर खड़े लोगों की आवाज़ बुलंद करता रहे, बेजुबानों की पीड़ा दिखाते रहे तो सपोर्ट करें !.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button