राजनीति

Rahul Gandhi का नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला लगातार जारी, महंगाई को लेकर फिर साधा निशाना

नई दिल्ली: कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी का केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला लगातार जारी है. राहुल (Rahul Gandhi) लंबे समय से महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार पर हमलावर रहे हैं तथा एक बार फिर उन्होंने महंगाई को लेकर निशाना साधा है. कांग्रेस सांसद ने मुद्रास्फीति दर और फिक्स डिपॉजिट रेट (FD Interest Rate) की तुलना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मास्टरस्ट्रोक’ ने आपकी मेहनत की कमाई को ध्वस्त कर दिया है

राहुल गांधी ने आज शनिवार को ट्वीट कर इंफ्लेशन रेट (मुद्रास्फीति दर) और फिक्स डिपॉजिट रेट की तुलना की. उन्होंने बताया कि इंफ्लेशन रेट 6.95 फीसदी हो गया जबकि फिक्स डिपॉजिट रेट घटते-घटते 5 फीसदी पर आ गया है. अपने बैंक खातों में ₹15 लाख जमा करवाना भूल जाइए, पीएम नरेंद्र मोदी के ‘मास्टरस्ट्रोक’ ने आपकी मेहनत की कमाई को ध्वस्त कर दिया है. उन्होंने इसी ट्वीट के जरिए एक डेटा के आधार पर बताया कि 2 लाख रुपये फिक्स करने पर 2022 में 11,437 रुपये ब्याज मिलता है, जबकि 2012 में इससे कहीं अधिक 19,152 रुपये मिला करते थे

इससे पहले पिछले बुधवार (20 अप्रैल) को राहुल गांधी ने दिल्ली और मध्य प्रदेश के हिंसा प्रभावित इलाकों में अतिक्रमण रोधी अभियान के तहत बुलडोजर चलाए जाने को लेकर सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि देश के संवैधानिक मूल्यों को ध्वस्त किया गया है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी को अपने दिल में बैठी नफरत को ध्वस्त करना चाहिए. राहुल गांधी ने संविधान की प्रस्तावना वाला पृष्ठ और एक बुलडोजर की तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, यहां भारत के संवैधानिक मूल्यों को ध्वस्त किया गया है. गरीबों और अल्पसंख्यकों को सरकार प्रायोजित निशाना बनाया गया है. भाजपा को इन सबकी बजाय अपने दिल में बैठी नफरत को ध्वस्त करना चाहिए

इससे पहले, राहुल गांधी ने उस खबर को साझा करते हुए देश में कथित तौर पर कोयले की कमी होने का मुद्दा उठाया जिसमें दावा किया गया है कि ऊर्जा संयंत्रों में कोयले का भंडार कम हो गया है. कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया, आठ साल में बड़ी-बड़ी बातें करने का नतीजा है कि सिर्फ आठ दिनों का कोयला भंडार बचा है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button