राष्ट्रीय

पंजाब : जिस क्षेत्र में रोका गया था पीएम काफिला, वहां से नदी में मिली पाकिस्तानी नाव, सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुटीं

Advertisement
Advertisement

चंडीगढ़: पंजाब में फिरोजपुर की सीमा सुरक्षा बल को सतलुज नदी में एक संदिग्ध नाव मिली है. हालांकि ताजा जानकारी के मुताबिक बीएसएफ को यह नाव यहां कैसे पहुंची और इसे कौन लेकर आया, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. बताया जा रहा है कि बीओपी टीटी मल के पास यह नाव मिली है. दरअसल नाव की बरामदगी इसलिए अहम हो जाती है

क्योंकि 2 दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसी इलाके में थे. उनका काफिला मौके से महज 50 किलोमीटर की दूरी पर ही फंसा था.सतलुज में संदिग्ध नाव मिलने के बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड पर आ गई हैं. माना जा रहा है कि सतलुज में मिली संदिग्ध नाव पाकिस्तान से आई है. हालांकि अभी इस विषय पर जांच भी चल रही है. जिसमें पता लगाया जा रहा है

कि यदि यह नाव किसी मकसद से यहां पहुंचाई गई है तो इसके पीछे क्या साजिश थी.वहीं दूसरी तरफ गुरुवार को पंजाब के फिरोजपुर में आई गृह मंत्रालय की टीम ने पंजाब के DGP समेत उन तमाम अधिकारियों से पूछताछ की जो कि प्रधानमंत्री के दौरे में ड्यूटी पर तैनात थे. यहां तक कि फिरोजपुर कंट्रोल रूम में VIP ड्यूटी को मॉनिटर करने वाले अधिकारी से भी टीम ने पूछताछ की.

गृह मंत्रालय की टीम ने चार ज़िलों के एसएसपी समेत ड्यूटी मजिस्ट्रेट डिप्टी कमिश्नर ADGP दो आईजी और एक डीआईजी से भी पूछताछ की. वहीं गृह मंत्रालय की टीम ने पूरी पूछताछ को रिकॉर्ड किया और अधिकारियों से उनके मोबाइल लोकेशन से लेकर उनकी ड्यूटी पर क्या क्या काम किए गए की लिस्ट भी मांगी है.इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के मामले में शुक्रवार को कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला किया. उन्होंने कहा,

पीएम मोदी को जब हवाई मार्ग से जाना था. सड़क से जाने का प्लान नहीं था. तो वे कैसे गए.इतना ही नहीं सिद्धू ने पूछा कि क्या इस मामले में आईबी और सेंट्रल एजेंसी जिम्मेदार नहीं हैं. सिद्धू ने कहा, रैली में लोग नहीं थे. इसलिए ये पूरी प्लान रचा गया. रैली में 70 हजार कुर्सियां लगाई गई थीं. लेकिन 500 भी लोग नहीं आए. ऐसे में ये सब ड्रामा किया गया है. सिद्धू ने कहा, बीजेपी पंजाब को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button