राष्ट्रीय

ग्लोबल COVID19 समिट में PM Narendra modi का संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) ने बुधवार को ग्लोबल कोविड शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन की अगुवाई में हुए इस शिखर सम्मेलन को प्रधानमंत्री मोदी ने वर्चुअली संबोधित किया। पीएम ने कहा कि पूरी दुनिया को कोरोना वायरस से मिलकर लड़ना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते ऐसे व्यवधान पैदा हुए जो पहले कभी देखने को नहीं मिले थे और यह अभी खत्म नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि दुनिया के अधिकांश हिस्सों में अभी भी टीकाकरण होना बाकी है, इसलिए राष्ट्रपति बाइडेन की यह पहल सामयिक और स्वागत योग्य है।

20 करोड़ से ज्यादा भारतीयों का पूर्ण टीकाकरण’

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने मानवता को हमेशा एक परिवार के रूप में देखा है। उन्होंने कहा कि भारत के फार्मास्युटिकल उद्योग ने कॉस्ट इफेक्टिव डायग्नोस्टिक किट, दवाएं, चिकित्सा उपकरण और पीपीई किट का उत्पादन किया है और इनकी वजह से कई विकासशील देशों को किफायती विकल्प उपलब्ध हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘भारत अब दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चला रहा है। हाल ही में, हमने एक दिन में लगभग 2.5 करोड़ लोगों को टीका लगाया। हमारे ग्रासरूट लेवल के हेल्थ केयर सिस्टम ने अब तक 80 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज लगाए हैं। 20 करोड़ से ज्यादा भारतीयों का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है

मौजूदा टीकों की उत्पादन क्षमता भी बढ़ा रहे’
पीएम मोदी ने कहा, ‘जैसे-जैसे नए भारतीय टीके विकसित होते हैं, हम मौजूदा टीकों की उत्पादन क्षमता भी बढ़ा रहे हैं। जैसे-जैसे हमारा उत्पादन बढ़ता है, हम दूसरों को भी वैक्सीन की आपूर्ति फिर से शुरू करने में सक्षम होंगे। इसके लिए कच्चे माल की सप्लाई चेन को खुला रखना होगा। हमने 150 से अधिक देशों के साथ दवाएं और चिकित्सा आपूर्ति साझा की है। 2 स्वदेशी रूप से विकसित टीकों को भारत में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिली है, जिनमें दुनिया का पहला डीएनए आधारित टीका भी शामिल है। कई भारतीय कंपनियों को विभिन्न टीकों के उत्पादन का लाइसेंस मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button