राष्ट्रीय
Trending

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे PM Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए से पांच देशों के समूह ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, चीन, भारत और दक्षिण अफ्रीका) के सालाना शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे. यह जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने एक बयान में दी है. भारत साल 2021 में ब्रिक्स की अध्यक्षता कर रहा है. इस बैठक में ब्राजील के राष्ट्रपति जाइर बोलसोनारो, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा उपस्थित रहेंगे.

इस बैठक में अफगानिस्तान (Afghanistan) की ताजा स्थिति पर चर्चा होने की उम्मीद है. पीएमओ के मुताबिक भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, न्यू डेवलपमेंट बैंक के अध्यक्ष मार्कोस ट्रॉयजो, ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल के अस्थायी अध्यक्ष ओंकार कंवर और ब्रिक्स विमेन्स बिजनेस एलायंस की अस्थायी अध्यक्ष डॉ. संगीता रेड्डी इस मौके पर शिखर सम्मेलन में उपस्थित राजाध्यक्षों के सामने अपने-अपने दायित्वों के तहत साल भर में किए काम काम का ब्योरा प्रस्तुत करेंगे.

दूसरी बार ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे पीएम मोदी

इस बार शिखर सम्मेलन की विषयवस्तु ‘‘ब्रिक्स@15: अंतर-ब्रिक्स निरंतरता, एकजुटता और सहमति के लिए सहयोग” है. पीएमओ ने बताया कि अपनी अध्यक्षता में भारत ने चार प्राथमिक क्षेत्रों का खाका तैयार किया है. इन चार क्षेत्रों में बहुस्तरीय प्रणाली, आंतक विरोध, सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए डिजिटल और प्रौद्योगिकीय उपायों को अपनाना तथा लोगों के बीच मेल-मिलाप बढ़ाना शामिल है. इन क्षेत्रों के अलावा, उपस्थित राजाध्यक्ष कोविड-19 महामारी के दुष्प्रभाव और मौजूदा वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान करेंगे.

प्रधानमंत्री मोदी दूसरी बार ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे. इसके पहले साल 2016 में उन्होंने गोवा शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता की थी. इस साल भारत उस समय ब्रिक्स की अध्यक्षता कर रहा है, जब ब्रिक्स का 15वां स्थापना वर्ष मनाया जा रहा है. 13वां ब्रिक्स सम्मेलन भारत की अध्यक्षता में वर्चुअली आयोजित होगा और इसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे. इसे लेकर शुक्रवार को चीन की ओर से भी प्रतिक्रिया सामने आई थी.

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात पर भी होगी चर्चा

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन (Wang Wenbin) से जब पूछा गया कि क्या ब्रिक्स बैठक में अफगानिस्तान पर चर्चा की जाएगी, तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा, ‘ब्रिक्स उभरते बाजारों और विकासशील देशों के बीच सहयोग का एक महत्वपूर्ण मंच है. यह अंतरराष्ट्रीय मामलों में एक सकारात्मक शक्ति की तरह है.’ वेनबिन ने कहा कि ब्रिक्स देशों में संचार और समन्वय बनाए रखने और साझा हित के अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर बात करने की एक अच्छी परंपरा है और वे ऐसा करना जारी रखेंगे.

आपको बता दें बीते साल भारत और चीन (India China Tensions) के बीच लद्दाख में काफी तनाव भी देखने को मिला था. चीन ने सीमा से जुड़े नियमों का कई बार उल्लंघन किया है. इस तनाव को कम करने के लिए अब तक कई बैठकें की गई हैं. हो सकता है कि ब्रिक्स की बैठक में भारत और चीन के बीच जारी विवाद पर भी बातचीत हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button