Advertisement
छत्तीसगढ़प्रदेश

पखांजुर: धान का उठाव नही होने से अंचल के किसान परेशान

Advertisement
Advertisement

पखांजुर: सुजीत मंडल: धान खरीदी का कार्य एक दिसंबर से पूरे छत्तीसगढ़ में शुरू हो गया किसानों से अब तक पचास प्रतिशत धान लेने की कवायद की प्रक्रिया पूरी हो चुकी हैं लेकिन धान खरीदी लगभग 1 महीने पूरे होने को हैं धान के उठाव नहीं होने से अब किसान परेशान हो रहे धान का उठाव नही होने के चलते अब किसानों के पास एक नई समस्या आकर खड़ी हो गई हैं

बीते एक सप्ताह से टोकन नही कटने से अंचल के किसान परेशान हैं वहीं आये दिन किसान अपने धान को देने के लिए धान खरीदी केंद्र का चक्कर काटने को मजूबर हैं शासन किसानों की समस्या को लेकर गभीरं नही हैं जिसका खमियाजा अंचल के किसान भुगत रहे हैं लेने की शुरू कर दिया गया हैं लेकिन धान का परिवहन नही होने से अंचल के सैकड़ों किसान परेशान हो रहे हैं शासन के नियमानुसार धान खरीदी केंद्र से 15 दिनों में ही धान का परिवहन कर संग्रहण केंद्र में भेजना होता है ,अब तक बांदे लैम्प्स के अंतर्गत 27,12,2021 के बांदे धान फड़ केंद्र में 12219,20 पी व्ही 78 केंद्र में 10760.80, पी,व्ही 84 केंद्र में 12190,00 पी व्ही 89 केंद्र में 11975.60 पी व्ही 99 केंद्र में 14389,60. खरीदी हो चुका है, छोटेबेटिया लैम्प्स  के अंतर्गत पी व्ही 92 धान खरीदी केंद्र में 12915.20,

और रेंगवाही उप केंद्र में 10246.80,वही कोरेनार लैम्प्स के अंतर्गत कोरेनार केंद्र में 11490.40 .पी व्ही 105 धान खरीदी केंद्र में 8227,20 इरपनार केंद्र में 5302.00 किलो धान खरीदी लेना हो चुका हैं लेकिन धान का परिवहन नही होने के चलते इन धान खरीदी केंद्रों में धान के रखरखाव की वयवस्था नही होने से किसानों से धान लेना बंद कर दिया हैं किसान सरोजित कीर्तनिया, बिनय मिस्री, असित सरकार, देवदास मंडल, रसराज देवनाथ, जिमि राम पन्ना, रिजुस लकड़ा, केस्वर बेक, राजकुमारी नाग, गोविंद बैरागी ,रंजीता मंडल,गौतम दत्ता,सबिता बिस्वास,कालीपद मंडल,ने कहा कि हम किसानों को तो धान का पर्ची मिल रहा है पर धान केंद्र से धान का परिवहन नही होने के चलते हम किसान धान दे नही पा रहे है कियूकी धान खरीदी  केंद्र में पर्याप्त जगह नही है जहाँ पे हम किसान धान रखे, इसलिए शासन प्राशासन से तत्काल इस समस्या को दुरस्त करने की मांग की हैं ,,,,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button