प्रदेशबिहार

भारत बंद का छातापुर में दिखा मिला जुला असर

छातापुर-सुपौल: सोनू कुमार भगत: केंद्रीय संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर छातापुर प्रखण्ड मुख्यालय में महागठबंधन के नेतृत्व में भाकपा कार्यकर्ताओ द्वारा सोमवार को सुबह के 8 बजे से ही सड़क पर उतरकर बंदी को सफल बनाने के कार्य मे जुटे दिखे। बंदी को सफल बनाने को लेकर भाकपा अंचल सचिव रघुनंदन पासवान के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने हाथ मे लाल झंडा थामे सड़क पर उतरकर चक्का जाम करते भी दिखे। हालांकि इस दौरान आवश्यक कार्य से जाने वाले लोगों को प्रदर्शन में जुटे कर्ताओं द्वारा छूट दी जा रही थी। भाकपा नेता श्री पासवान ने बताया कि पंचायत चुनाव के निमित प्रखण्ड क्षेत्र में सोमवार को नाम वापसी, चुनाव प्रतीक चिन्ह का आवंटन समेत अन्य महत्वपूर्ण कार्य होने है।

जिसको लेकर यह आवश्यक झूट दी गई है। उन्होंने बताया कि उक्त कार्य मे किसी प्रकार की कोई असुविधा प्रदान कार्यकर्ताओं द्वारा नही की जाएगी। सादगी के साथ भारत बंद के तहत प्रखण्ड क्षेत्र में भी बंदी को सफल बनाने का कार्य किया जा रहा है। बिभीन्न टोली में शामिल होकर भाकपा कार्यकर्ता छातापुर के बाजार में बिभीन्न व्यवसायियों को दुकान बंद करने और बंदी को सफल बनाने में योगदान देने की बात कही। जिसके तहत कई दुकानदार स्वयं से अपनी प्रतिष्ठान बंद कर दिए। हालांकि बंदी का आंशिक असर ही छातापुर में देखने को मिली। लगभग 12 बजे के बाद बाजार में पूरी तरह दुकानें खुल गई।

जिसके बाद बिभीन्न साग सब्जी फल आदि की भी दुकाने सड़क किनारे लग गई। उधर, बंदी कार्यक्रम के बाद भाकपा कार्यकर्ताओ का जत्था छातापुर बस पड़ाव पर रुककर बंदी के बाबत अपनी बात करते हुए केंद्र सरकार के के खिलाप मोर्चा खोलने का कार्य किया। भाकपा नेता श्री पासवान कहा कि खेती सहित देश के सभी संसाधनों को कारपोरेट घरानों व बहु राष्ट्रीय कम्पनियों के गुलाम बनाये जाने की मुहिम में लगे केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ देश के किसान बीते 11 महीनों से प्रदर्शन में जुटे हुए है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही नरेंद्र मोदी की सरकार में महंगाई इतनी बढ़ी है कि आम जनता परेशान है। यही अभी समस्याओं को लेकर यह बन्दी कार्यक्रम आहूत हुई है।मौके पर कामरेड जगदेव यादव, बेचन सिंह, शंकर कुमार, डॉ. तस्लीम, कुलदेव पासवान, सूर्य नारायण पासवान, राजेन्द्र यादव, मदन यादव, प्रभु सिंह, मो. मुर्शिद, मूल चंद यादव, भुवनेश्वर निजपुरिया आदि थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button