मध्य प्रदेश
Trending

Madhya Pradesh: रामनवमी के दौरान हिंसा, दंगाइयों के मकानों व दुकानों पर चला बुलडोजर

Madhya Pradesh: भोपाल,। मध्य प्रदेश के खरगोन और बड़वानी जिलों में रविवार को रामनवमी की शोभायात्रा के दौरान हुए उपद्रव के बाद प्रदेश सरकार सख्त हो गई है। सोमवार को दोनों जिलों में सर्चिंग और कार्रवाई का दौर शुरू हुआ। शाम तक खरगोन में 84 दंगाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया। खरगोन में दंगाइयों द्वारा अतिक्रमण कर बनाए गए 20 से अधिक मकानों व दुकानों और बड़वानी के सेंधवा में पत्थरबाजों के पांच मकानों को प्रशासन ने बुलडोजर से ध्वस्त कर दिया। मंगलवार को भी कार्रवाई जारी रहेगी।

उधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में कहा कि प्रदेश की धरती पर दंगाइयों के लिए कोई स्थान नहीं है। दंगाई चिह्नित कर लिए गए हैं। जिन्होंने पत्थर चलाए हैं, संपत्ति को नुकसान पहुंचाया है, उन्हें दंडित तो करेंगे ही, उनसे सार्वजनिक या निजी संपत्ति के नुकसान की वसूली भी करेंगे। प्रदेश में हमने लोक व निजी संपत्ति नुकसान की वसूली का अधिनियम पास किया है। क्लेम ट्रिब्यूनल का गठन कर रहे हैं। गृहमंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने भी कहा कि जिस घर से पत्थर आए हैं, उसे पत्थरों का ढेर बना दिया जाएगा। किसी को भी शांति व्यवस्था बिगाड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी

इंटरनेट मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने पर खरगोन नगरपालिका के चार कर्मचारियों पर भी कार्रवाई की गई है। इसमें नपा के दरोगा अकबर खान को निलंबित किया गया है, वहीं, तीन अन्य दैनिक वेतनभागी कर्मियों की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं। आइजी राकेश गुप्ता ने बताया कि संवेदनशील क्षेत्रों में पुलिस बल तैनात है और लगातार गश्त चल रही है।

सीएम बोले, मप्र की धरती पर दंगाइयों के लिए कोई स्थान नहीं

इस बीच, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट में लिखा कि रामनवमी के अवसर पर खरगोन में हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। मध्य प्रदेश की धरती पर दंगाइयों के लिए कोई स्थान नहीं है। यह दंगाई चिन्हित कर लिए गए हैं, इनको छोड़ा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। मध्य प्रदेश में हमने लोक व निजी संपत्ति को नुकसान का निवारण व नुकसान की वसूली विधेयक पारित किया है। खरगोन के दंगाइयों को दंडित तो किया ही जाएगा। साथ ही, नुकसान की वसूली भी उनसे की जाएगी। राज्य सरकार इस के लिए क्लेम ट्रिब्यूनल का गठन कर रही है

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button