Advertisement
उत्तर प्रदेश

कानपुर के कमिश्नर Aseem Arun बीजेपी में शामिल

Advertisement
Advertisement

कानपुर: यूपी में चुनाव के ऐलान के बाद पुलिस कमिश्ननर असीम अरुण (Aseem Arun) को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। असीम अरूण ने वीआरएस (VRS) लेने का फैसला लिया है। सूत्रों के मुताबिक सीएम योगी (Yogi Adityanath) से मुलाकात के बाद असीम अरुण (Asmi Arun) ने ये फैसला लिया है।

माना जा रहा है कि वह BJP के टिकट पर कन्नौज सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। बता दें कि कन्नौज उनका पैतृक गांव है। सबसे पहले स्वॉट गठित करने का श्रेय भी असीम अरूण को जाता है। बताया जा रहा है कि उन्होंने शनिवार दोपहर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की थी।

कानपुर में  पुलिस कमिश्ननर हैं असीम अरुण
एडीसी रैंक के असीम अरुण 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। तीन अक्टूबर 1970 को इनका जन्म बदायूं में हुआ था। इनके पिता श्री राम अरुण की गिनती भी प्रदेश के तेजतर्रार आइपीएस में होती थी। उन्होंने प्रदेश के डीजीपी का पद भी संभाला था। असीम अरुण की मां शशि अरुण जानी-मानी लेखिका हैं।

इन्होंने लखनऊ के सेंट फ्रांसिस कॉलेज से प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की और दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से बीएससी किया है। आईपीएस असीम अरुण ने सिविल सर्विसेज में हाथ आजमाया। इसका कारण था कि पिता इन्हें अपनी तरह आइपीएस अफसर ही बनते हुए देखना चाहते थे। आइपीएस अफसर बनने के बाद असीम अरुण धीरे-धीरे यूपी पुलिस की रीढ़ बनते गए।

यूपी में 10 फरवरी को पहले चरण का चुनाव
कोरोना थर्ड वेव की आशंका के चलते चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव कराने को लेकर अपनी सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इसी के चलते चुनाव आयोग ने आज पीसी कर चुनाव संबंधित महात्वपूर्ण जानकारी दी है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा  ने कहा कि चुनाव में धनबल का इस्तेमाल रोका जाएगा।

गैरकानूनी पैसे-शराब पर कड़ी नजर रखी जाएगी। सभी एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया है। पैसे के दुरूपयोग पर ज़ीरो टॉलरेंस, गैर कानूनी पैसे और शराब पर नज़र रहेगी। यूपी में 7 चरणों में व‍िधानसभा चुनाव होगा, 10 फरवरी से 7 मार्च तक यूपी मे सात चरणों मे चुनाव संपन्न कराए जाएंगे। वही 10 फरवरी  को पहले चरण का मतदान होगा। 

रैली, रोड शो और पदयात्रा की अनुमति नहीं
डिजिटल, वर्चुअल तरीके से चुनाव प्रचार करें चुनाव पार्टियां। 15 जनवरी तक किसी तरह की रैली, रोड शो और पदयात्रा नहीं होगी।  40 लाख ही उम्मीदवार चुनाव खर्च कर पाएंगे।  चुनाव आयुक्त ने कहा कि जीत के बाद जश्न या विजय जुलूस की इजाजत नहीं होगी।  डोर टू डोर कैंपने के लिए पांच लोगों की ही इजाजत रहेगी। कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। किसी भी तरह के नियमों के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button