छत्तीसगढ़

नहरों के जीर्णोद्धार से अंतिम छोर तक सिंचाई सुविधाकांकेर में दूध नदी के दोनां तरफ रिटेनिंग वॉल का होगा निर्माण

कांकेर -जल संसाधन संभाग कांकेर के अंतर्गत विगत 02 वर्षों में 12 सिंचाई योजनाओं का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया, जिसमें से 06 योजनायें क्रमशः सेन्दारनाला व्यपवर्तन का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य, मैनखेड़ा तालाब, डोकला तालाब, हल्बा व्यपवर्तन, चावड़ी फिडर तालाब एवं ढोरदे तालाब का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य, जो अपने रूपांकित सिंचाई क्षमता से कम सिंचाई कर रही थीं, उनका जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति शासन से प्राप्त होने उपरांत पूर्ण किया गया है, इन सभी 06 योजनाओं में रूपांकित सिंचाई क्षमता से 1585 हेक्टेयर सिंचाई कम हो रही थी। जीर्णोंद्धार एवं नहर लाईनिंग पश्चात् इसकी कमी की पूर्ति की गई है। लाईनिंग कार्य होने से पानी के अपव्यय को भी रोका जा सका, जिसके फलस्वरूप पानी खेतों के अंतिम छोर तक पहुंचाया जा सका है। इसी प्रकार 06 एनीकट, स्टॉपडेम धनगुडरा स्टापडेम, छोटेकापसी स्टॉपडेम, मरकाटोला स्टॉपडेम, कसावाही स्टापडेम, घोड़ागांव स्टॉपडेम एवं नाथिया नवागांव एनीकट का कार्य पूर्ण किया गया, इनसे 538 हेक्टेयर सिंचाई निर्मित की गई। इन योजनाओं के निर्माण से निकटस्थ ग्रामवासिंयों को पेयजल एवं निस्तार की सुविधा मुहैया कराई गई, साथ ही भू-जल संवर्धन में वृद्वि हुई है।
जल संसाधन संभाग कांकेर के कार्यपालन अभियंता ने बताया कि आगामी एक वर्षों में 17 योजनाओं का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य कराया जाना प्रस्तावित है, इनमें मुड़पार व्यपवर्तन, अरौद उद्धवहन, खैरखेड़ा तालाब, पी.व्ही. 42 तालाब, पी.व्ही. 53 तालाब, जयराम पारा तालाब, पी.व्ही. 21 तालाब, बिरनपुर तालाब, डुमरपानी व्यपवर्तन, मानिकपुर तालाब, हाराडुला उदवहन, पी.व्ही. 77 तालाब, बांधापारा तालाब, नेलचांग तालाब, पी.व्ही. 26 तालाब एवं पलाचुर तालाब जीर्णांद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति शासन से प्राप्त हो चुकी है, इनमें से 09 कार्य प्रगति पर है तथा शेष कार्य को प्रारंभ किया जाना है, इन कार्यों के पूर्ण होने से 02 हजार 375 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई कमी की पूर्ति होगी। उन्होंने बताया कि दूध नदी बाढ़ नियंत्रण कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है, जिसके तहत कांकेर शहर के पुराना बस स्टैण्ड के पास निर्मित स्टाप डैम के अपस्ट्रीम में नदी के दोनां तरफ रिटेनिंग वॉल निर्माण कार्य किया जाना प्रस्तावित है, इसके निर्माण से कांकेर शहर में बाढ़ की स्थिति को नियंत्रित किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button