कारोबार

भारत का पहला, 3 स्तरीय सुरक्षा देने वाला Three Way Mix Sugarcane Herbicide

मुंबई, : Three Way Mix Sugarcane Herbicide – स्वाल कॉर्पोरेशन लिमिटेड गन्ना किसानों की समस्याओं को हल करने के लिए लेकर आया है – त्रिशुक- एक खरपतवार प्रबंधन समाधान। यह अभिनव उत्पाद भारत का पहला तीन स्तरीय मिक्स गन्ना तृणनाशक Three Way Mix Sugarcane Herbicide है जो खरपतवार प्रबंधन की लागत को कम करता है और प्रभावी खरपतवार प्रबंधन के ज़रिए किसानों की फसल उत्पादकता को बढ़ाता है। 2,4-डी सोडियम नमक 44%, मेट्रिबुज़िन 35% और पीएसई 1% डब्ल्यूजी से बनायह प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर (पीजीआर)मोबाइल प्रकाश संश्लेषण अवरोधक और एसीटोलैक्टेट सिंथेज़ (एएलएस) अवरोधक के रूप में तीन स्तरीय सुरक्षा प्रदान करता है।

खरपतवार प्रबंधन सही न कर पाने की वजह से हर साल गन्ना किसानों को 25-50% उपज हानि का सामना करना पड़ता है। अपने अभिनव उत्पादतीन स्तरीय सुरक्षा प्रदान करने वालेमिक्स तृणनाशक के ज़रिए किसानों के इस नुकसान को कम करना त्रिशुक का लक्ष्य है। पिछले तीन वर्षों मेंभारत के प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्यों जैसे उत्तर प्रदेशमहाराष्ट्रकर्नाटकतमिलनाडुगुजरातपंजाब और हरियाणा में किए गए 1000 से अधिक परीक्षणों में त्रिशुक ने असाधारण परिणाम दिखाए हैं। यह देखा गया कि त्रिशुक 50-60 दिनों का खरपतवार नियंत्रण देता है और खरपतवार प्रबंधन की श्रम लागत को प्रति एकड़ 3000-4000 रुपयों से कम करता है।

किसान इस उत्पाद का आसानी से लाभ उठा सकें इसलिए स्वाल कॉर्पोरेशन ने 40 लॉन्च इवेंट आयोजित करके 3500 डीलरों को प्रशिक्षित किया है। डीलरों और किसानों ने त्रिशुक के इस उत्पाद का स्वागत किया है।

स्वाल कॉर्पोरेशन के बिज़नेस हेड श्री पंकज जोशी ने कहा, “हम समझते हैं कि गन्ना भारतीय किसान के लिए आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण फसल है। इसे ध्यान में रखते हुए, हमने सर्वोत्तम खरपतवार प्रबंधन समाधान के रूप में त्रिशुक को लॉन्च किया है। हमने देखा है कि यह घास, ब्रॉड लीव वीड्स, और सेज वर्गीय खरपतवार पर नियंत्रण बेहतर नियंत्रण, श्रेणी में सर्वोत्तम फसल सुरक्षा और लंबी अवधि के लिए खरपतवार नियंत्रण देता है। किसान हमारे प्रमुख हितधारक हैं और हम उनके कल्याण और समृद्धि के लिए प्रतिबद्ध हैं। नवाचार के माध्यम से हम उनके जीवन को आर्थिक रूप से बेहतर बनाना चाहते हैं। त्रिशुक एक ऐसा उत्पाद है जो गन्ना किसानों को उनकी आय और फसल की उपज बढ़ाने में मदद करेगा।”

कोल्हापुरमहाराष्ट्र के एक गन्ना किसान श्री अमित पाटील कहते है, मैंने अपने खेत में गन्ना बोने के एक महीने बाद त्रिशुक का इस्तेमाल किया। उस समय 3-4 पत्तों पर खरपतवार थे। त्रिशुक के प्रयोग से मेरे खेत में 100% खरपतवार नियंत्रित हो गएऔर 50-60 दिनों तक फिर से खरपतवार नहीं उगे। इस तरह मैंने मेहनत और खरपतवार नियंत्रण के लिए दूसरे तृणनाशकों के से हजार रूपए बचाए।”

Back to top button