राष्ट्रीय
Trending

यूक्रेन में मारे गए भारतीय छात्र Naveen Shekarappa का शव सोमवार को वापस आएगा भारत

यूक्रेन (Ukraine) में युद्ध के दौरान मारे गए भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा (Naveen Shekarappa) का शव सोमवार को भारत पहुंचेगा. कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) ने इसकी जानकारी दी है. बसवराज बोम्मई ने कहा कि यूक्रेन में गोलाबारी में मारे गए खार्किव मेडिकल यूनिवर्सिटी (Kharkiv Medical University) के अंतिम वर्ष के मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा का शव 21 मार्च को बेंगलुरु एयरपोर्ट (Bengaluru airport) पर पहुंचेगा. 21 साल के नवीन का घर कर्नाटक में हावेरी जिले में है. मौत के बाद से नवीन की बॉडी खार्कीव मेडिकल यूनिवर्सिटी की मॉर्चुरी में ही रखी हुई थी

नवीन शेखरप्पा खार्किव शहर में रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे. वह वहां पर चौथे और अंतिम वर्ष के छात्र थे. मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि नवीन की मौत उस समय हुई, जब वह अपने बंकर से बाहर निकलकर खाना, पानी और पैसे लेने के लिए गए थे. वह जिस दुकान से खाना और पानी लेने गए थे, वह बंकर से महज 50 मीटर की दूरी पर था. नेताओं ने यूक्रेन पर रूस के हमले के छठे दिन हुई छात्र की मौत की निंदा की थी. छात्र की मौत के बाद से ही उसके शव को भारत लाने के लिए अथक प्रयास किए जा रहे थे. रूस-यूक्रेन के बीच जारी जंग में अभी तक बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो चुकी है

वहीं, यूक्रेन में मौजूद रहे भारतीय दूतावास (Indian Embassy) ने शुक्रवार को एक नई एडवाइजरी जारी की. दूतावास ने ट्वीट किया, ‘यूक्रेन में रहने वाले भारतीयों, भारतीय दूतावास अभी भी काम कर रहा है. हमसे ईमेल और हेल्पलाइन नंबर के जरिए संपर्क किया जा सकता है. ईमेल आईडी है- cons1.kyiv@mea.gov.in और 24*7 सहायता के लिए व्हाट्सएप नंबर है- +380933559958, +919205209802 and +917428022564.’ भारतीय दूतावास को 13 मार्च को पोलैंड की राजधानी वॉरसा में अस्थायी तौर पर शिफ्ट किया गया था. विदेश मंत्रालय ने इसे लेकर कहा था कि तेजी से बिगड़ते सुरक्षा हालात को लेकर ऐसा किया गया

विदेश मंत्रालय ने ऑपरेशन गंगा (Operation Ganga) के तहत युद्धग्रस्त यूक्रेन से 22,500 से अधिक भारतीयों को निकाला है. यूक्रेन से अधिकतर बाहर निकाले गए लोग भारतीय छात्र हैं. रूस द्वारा यूक्रेन में सैन्य आक्रमण शुरू करने के दो दिन बाद 26 फरवरी को बचाव अभियान शुरू किया गया था. विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि युद्धग्रस्त यूक्रेन में 15-20 भारतीय हैं, जो वहां से बाहर निकलना चाहते हैं और उन्हें सभी तरह की मदद प्रदान की जा रही है. मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि ‘ऑपरेशन गंगा’ अभी भी जारी है

Back to top button