राष्ट्रीय

सरकारी वाहनों में सुनाई देगी भारतीय वाद्ययंत्रों की आवाज-Nitin Gadkari

सड़कों पर दौड़ते सरकारी वाहन और एंबुलेंस के कर्कश हॉर्न की जगह अगर आपको बांसुरी, तबले, हारमोनियम और शंख जैसे पारंपरिक भारतीय वाद्य यंत्रों की आवाज सुनाई देने लगे तो आपको कैसा महसूस होगा? यकीनन ये एक बड़ी राहत की बात होगी और ऐसा जल्द होने भी जा रहा है क्योंकि खुद केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने ये घोषणा की है.

दरअसल गडकरी गुरुवार को राजस्थान के दौसा में निर्माणाधीन दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे के निरीक्षण के लिए आए थे. उन्होंने कहा कि वाहनों के कर्कश हॉर्न की आवाज से लोगों को निजात दिलाने के लिए अब वाहनों में परंपरागत वाद्य यंत्रों की आवाज़ का इस्तेमाल होगा. साथ ही टोल प्लाज़ा पर लगने वाली लम्बी क़तारों को खत्म करने के लिए वाहनों के जीपीएस से टोल वसूली की प्रक्रिया को अपनाया जाएगा. इसके लिए तैयारी चल रही है. ऐसा होने पर दो साल के भीतर सभी राष्ट्रीय राज मार्गों से टोल प्लाज़ा ख़त्म कर दिए जाएंगे.

जयपुर से दिल्ली के बीच इलेक्ट्रिक वाहन हाईवे बनाए जाएंगे
इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित करने की केंद्र सरकार की नीति का हवाला देते हुए गडकरी ने घोषणा कि है कि जयपुर से दिल्ली के बीच इलेक्ट्रिक वाहन हाईवे बनाए जाने की तैयारी है और इस हाइवे पर सिर्फ़ इलेक्ट्रिक वाहन ही चल सकेंगे.

स्कूटरमोटर साइकिल प्रेट्रोल की जगह एथेनॉल से चलेंगे
केंद्रीय मंत्री गडकरी ने इस दौरान एक रोचक लेकिन बेहद काम कि घोषणा भी की. उन्होंने ऐलान किया कि देश में स्कूटर, मोटर साइकिल, और ऑटो रिक्शा अब महंगे पेट्रोल की जगह एथेनॉल से चलेंगे. केंद्र सरकार इसके लिए जल्द ही क़ानून बनाने जा रही है. उन्होंने कहा कि पेट्रोल का भाव एक सौ दस रुपए प्रति लीटर है जबकि एथेनॉल का भाव पैंसठ रुपए प्रति लीटर ही है.

दुनिया का सबसे बड़ा एक्सप्रेस वे होगा दिल्ली और मुंबई का एक्सप्रेस वे

उन्होंने बताया कि दिल्ली और मुंबई के बीच बन रहा एक्सप्रेस वे दुनिया का सबसे बड़ा एक्सप्रेस वे होगा. अभी दिल्ली और मुंबई के बीच क़रीब साढ़े चौदह से किलोमीटर की दूरी है लेकिन नया एक्सप्रेस वे बन जाने के बाद ये दूरी तेरह सौ किलोमीटर रह जाएगीय यानी दोनों शहरों के बीच का सफ़र सिर्फ़ बारह से तेरह घंटों में पूरा हो सकेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button