उत्तर प्रदेश

दो बहनें साथ पढ़ रही हैं तो एक की फीस माफ करे प्राइवेट स्कूल- CM Yogi Adityanath

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि निजी स्कूलों में अगर दो बहनें एक साथ पढ़ रही हैं उनमें से एक की फीस माफ हो। अगर निजी स्कूल नहीं करते तो सम्बंधित विभाग ऐसी एक छात्रा की ट्यूशन फीस देने का काम करें। कोई जरूरत मंद बच्चा छूटने न पाए। जिला स्तर पर इसके लिए नोडल अधिकारी बनाए जाएं। इसके साथ ही सरकारी विद्यालयों में महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया जाए।

सीएम योगी ने ये बातें लोकभवन में छात्रवृत्ति वितरण कार्यक्रम में कहीं। इस दौरान उन्होंने गांधी जी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस दौरान योगी ने कहा कि आज हम सबके लिए आजादी के आन्दोलन के दो महान योद्धाओं की जयंती मनाने का दिन है। मैं गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री को नमन करता हूं। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा के बल पर देश को आजाद करवाया। 

सीएम योगी ने कहा कि हम सब आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। यह हम सबके लिए आत्म अवलोकन का अवसर है कि हम सबने इस देश के विकास के लिए अपना कैसा और कितना योगदान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्तूबर 2014 को स्वच्छता अभियान शुरू किया। यह अब एक मिशन बन गया। मैंने खुद देखा है कि यूपी के 38 जिलों में दिमागी बुखार से हर साल सैकडों मासूम दम तोड़ रहे थे। लेकिन प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान की वजह से उनकी प्रेरणा से 38 जिलों में दिमागी आ 97% नियंत्रित हो चुका है।

सीएम योगी ने कहा कि आज दुनिया की सबसे बड़ी महामारी का हम सब सामना कर रहे हैं लेकिन प्रधानमंत्री के प्रयासों से हम सबने आत्म निर्भर भारत की अवधारणा के साथ,एक जनपद एक उत्पाद जैसी योजनाओं से कामगारों को रोजी रोटी से वंचित नहीं होना पड़ा। उन्होंने कहाकि  आज लाल बहादुर शास्त्री ने 52 वर्ष की अल्पायु में ही 1965 के युद्ध में दुश्मन देश को लोहे के चने चबाने के लिए विवश किया था। हमारे लिए जरूरी हो जाता है कि हम इन दोनों महान विभूतियों से प्रेरणा प्राप्त करे़। अनुसूचित जाति,जनजाति, अल्पसंख्यक, पिछड़ा, सामान्य वर्ग के आवेदक छात्र छात्राओं को 30 नवम्बर तक छात्रवृत्ति वितरण पूरा हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button