छत्तीसगढ़

पारंपरिक ढंग से मनाया गया हरेली त्यौहारहरेल पर्व में शामिल हुए संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी

कांकेर – छत्तीसगढ़ी संस्कृति के अनुसार साल का पहला त्यौहार हरेली पर्व जिले में पारंपरिक ढंग से मनाया गया। ग्रामीणों द्वारा नांगर-जूड़ा, कुदाली, फावड़ा, गैती इत्यादि कृषि उपकरणों की पूजा-अर्चना की गई तथा  चीला रोटी चढ़ाया गया। गौठानों में पारंपरिक कार्यक्रम जैसे रस्सा-कस्सी, गेड़ी दौड़, मटका फोड इत्यादि कार्यक्रम भी आयोजित किये गये। संसदीय सचिव एवं स्थानीय विधायक श्री शिशुपाल शोरी कांकेर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत भीरावाही के आश्रित ग्राम टुराखार के गौठान में आयोजित हरेली पर्व में शामिल हुए। उनके द्वारा कृषि उपकरणों, नांगर-जुड़ा की पूजा अर्चना की गई तथा गौठान में वृक्षा रोपण किया गया।  

हरेली पर्व में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए संसदीय सचिव श्री शिशुपाल शोरी ने कहा कि हरेली का त्यौहान उमंग व उत्साह का त्यौहार है, लोग आपस में मिल कर भाईचारे के साथ इस पर्व को मनातें हैं। किसान भाई कृषि उपरकणों नांगर-जुड़ा, कुदाली, फावड़ा, गैती इत्यादि की पूजा करते हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ी संस्कृति, तीज-त्यौहार को पुर्नजीवित करने का प्रयास किया है। राज्य में छत्तीसगढ़ी त्यौहार को उत्साह पूर्वक मनाये जा रहें हैं।

गौठान को आर्थिक गतिविधि केन्द्र के रूप में विकसित करने के लिए ग्रामीणों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि यहाॅॅ पशुधन की सेवा और वर्मींकंपोस्ट का निर्माण के साथ-साथ अन्य आर्थिक गतिविधियां जैसे-मुर्गी पालन, मछली पालन, मशरूम उत्पादन, सब्जी उत्पादन इत्यादि आय मूलक कार्य भी किया जावे, जिससे आमदनी प्राप्त हो। गौठान से ग्रामीणों को फायदा, गांव वालों पर निर्भर करता है, सरकार आपकी हर संभव मदद करेगी।  

जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष श्रीमती सुभद्रा सलाम ने कहा कि छत्तीसगढ़ी तीज-त्यौहार को हम लोग भूलते जा रहे थे, जिसे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने पुर्नजीवित व जागृत करने का कार्य किया है। छत्तीसगढ़ी त्यौहार को फिर से उत्साह पूर्वक मनाने का दौर शुरू हो गया  है। हरेली पर्व की बधाई देते हुए उन्होंन कहा कि सभी लोग इसे मिलजुल कर एक साथ मनायंे तथा अपने गांव व जिले के विकास में सहभागी बनें। कार्यक्रम को जनपद पंचायत कांकेर के उपाध्यक्ष रोमनाथ जैन, गौठान समिति के अध्यक्ष महेन्द्र यादव तथा ग्राम पंचायत भीरावाही के सरपंच श्रीमती संगीता कोमरा ने भी संबोधित किया।

हरेली पर्व के अवसर पर पशुधन विकास विभाग द्वारा बहुउद्देशी पशु चिकित्सा शिविर का आयोजन भी किया गया था, जिसमें 25 पशुओं का उपचार व 40 बकरियों को रोग प्रतिबंधात्मक टीका लगाया गया, 30 पशुओं के लिए औषधी वितरण किया गया, 12 पशुओं का बधियाकरण और 36 पशुओं को कृमि नाशक दवापान कराया गया। कार्यक्रम में श्रीमती मंगलबाई, राधा मण्डावी, संध्या जैन, सत्याभामा जैन, दुलेश जैन, राजकुमार दर्रो को फीड सप्लीमेंट मिनरल मिक्सचर वितरण भी किया गया। हरेली पर्व के अवसर पर गौठान में रस्सा-कस्सी, मटका फोड़ एवं कुर्सी दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें पंच-सरपंच सहित अन्य महिलाओं ने उत्सापूर्वक भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button