उत्तर प्रदेश
Trending

Gorakhpur Attack: मुर्तजा अब्बासी पर कसता शिकंजा, घर से एयरगन बरामद

Gorakhpur Attack: गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में स्थित गोरखनाथ मंदिर पर हुए हमले के बाद उसकी जांच तेज हो गई है। मंगलवार को गोरखनाथ मंदिर सुरक्षा में तैनात जवानों पर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा अब्बासी को एटीएस रात में गोरखपुर से लखनऊ लेकर चली गई।

ऐसा माना जा रहा है कि केस एटीएस को ट्रांसफर होने की वजह से उसे लेकर गई है। वहीं यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि बीते दिनों शामली में मिले AK-47 और कारतूसों के कनेक्शन भी इससे जोड़कर जांच की जा रही है। परिवार के दो लोगों को एटीएस ने उठाया। इससे पहले मुर्तजा के सिविल लाइंस स्थित मकान पर पुलिस ने अपना ताला लगा दिया है। वहीं वहां आने जाने वालों पर भी पुलिस की नजर है

मंगलवार की शाम को मुर्तजा के घर पहुंची एटीएस ने करीब घंटे भर तक कमरे की तलाशी ली। कमरों में ताला बंद कर दिया है। पूछताछ के बाद दो युवकों को एटीएस ने उठाया है। जैसा कि नर्सिंगहोम के रास्ते ही घर में आने-जाने का रास्ता है, इस वजह से पुलिस का वहां पहरा भी है।

परिवार के लोगों ने ATS अधिकारियों के सामने हाथ जोड़कर कहा कि आप लोगों ने मेरे परिवार को आतंकी बना दिया। जबकि मेरा बेटा दिमागी रुप से बीमार है। वहीं, नर्सिंगहोम में भी हर आने-जाने वाले का नाम-पता नोट किया जा रहा है। जबकि मुर्तजा के पिता मुनीर अहमद ने किसी को हिरासत में लेने की बात इंकार किया है। उन्होंने कहा है कि STF के साथ मजिस्ट्रेट आए थे और बरामद सामान की फर्द बनाकर हस्ताक्षर कराकर ले गए

एटीएस के डेप्युटी एसपी, गोरखनाथ की पुलिस टीम के साथ मंगलवार की रात में मुर्तजा के घर पहुंचे थे। अब तक बरामद सामान की लिस्ट बनाकर टीम ने उन्हें सौंप दिया है। यह वह सामान है, जिसे मुर्तजा के घर से बरामद किया गया है। मुर्तजा के पिता का उस पर हस्ताक्षर कराया गया है। टीम ने घर से एयरगन बरामद किया था उसे भी साथ ले गई है।

जबकि सोमवार की रात को ले गए धार्मिक पुस्तक लौटा दिया है। घर से तीन बेसकीमती एयरगन और छर्रा मिलने के बाद एटीएस तथा पुलिस ने मुर्तजा से पूछा तो पता चला कि वह निशानेबाजी सीख रहा था। घर के पीछे एयरगन से लक्ष्य को भेदने का वह अभ्यास करता था। फिलहाल यह बात साफ इशारा करती है कि वह किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की नीयत से आया था। वह हथियार चलाने और लोन वोल्फ अटैक के तौर-तरीकों को भी इंटरनेट पर सर्च करता था।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button