छत्तीसगढ़

हाट-बाजार में हुआ निःशुल्क ईलाज, बीपी, शुगर हुआ कंट्रोल

कांकेर l-भानुप्रतापपुर विकासखण्ड के साप्ताहिक बाजार भैसाकन्हार (डू) में  मुख्यमंत्री हाट-बाजार योजना के अंतर्गत लगाये गये स्वास्थ शिविर में ईलाज की सुविधा प्राप्त करने वाली ग्राम भैसाकन्हार (डू) के 66 वर्षीय वृद्धा श्रीमती कारोबाई कुलदीप ने खुश होते हुए कहा कि ’’मोर बी.पी., शुगर अब कंट्रोल में हे’’। उन्होंने बताया कि तबियत खराब होने के कारण मैं बहुत परेशान थी, ग्रामीण परिवेश होने के कारण चिकित्सकों एवं ईलाज के संबंध में बहुत ज्यादा जानकारी नही थी, स्थानीय स्तर पर ईलाज करवा रही थी तथा परेशान हो चुकी थी, तब ग्राम के कोटवार ने बताया कि साप्ताहिक बाजार बुधवार के दिन सरकारी डॉक्टरों के द्वारा बाजार स्थल में मरीजों का निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण किया जाकर दवाईयां भी दी जाती है।  जानकारी मिलने पर मैं भी बाजार स्थल पहुंचकर अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराया, तब मुझे पता चला कि मेरा बी.पी और शुगर बढ़ गया है, डॉक्टरों द्वारा 400 से अधिक उच्च रक्तचाप एवं शुगर होने की जानकारी दी गई एवं आवश्यक चिकित्सा परार्मश के साथ ही निःशुल्क दवाईयां भी दिया गया। डॉक्टरों द्वारा दिये गये परार्मश के अनुसार मेरे द्वारा नियमित रूप से दवाईयों का सेवन किया गया और सावधानियां बरती गई, अब मेरा बीपी अब कंट्रोल में  है तथ 400 से घटकर 199 रह गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा शुरू की गई हाट-बाजार योजना की तारीफ करते हुए कहा कि ग्रामीणों को ईलाज के लिए अब भटकने की जरूरत नहीं है, हाट-बाजारों में भी डॉक्टर के द्वारा मरीजों का उपचार किया जा रहा है, साथ ही निःशुल्क दवाईयां भी दी जा रही है, उन्होंने इस योजना का लाभ उठाने के लिए ग्रामीणों को आग्रह किया। इसी ग्राम के 56 वर्षीय प्यारीबाई बोगा ने भी मुख्यमंत्री हाट-बाजार योजना अंतर्गत मरीजों का उपचार की सुविधा प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री की तारीफ की गई। उन्होंने बताया कि उन्हें बी.पी. की समस्या है, जो अब कंट्रोल में है। डॉक्टर हर सप्ताह बाजार के दिन आते हैं तब मैं उनसे अपना स्वास्थ्य परीक्षण करवाती हूॅ  और उनके बताये अनुसार दवाईयों का सेवन करती  हूॅ। मेरा बी.पी अब नियत्रित है, ईलाज के लिए अनावश्यक भटकने की जरूरत नहीं पड़ती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button