विज्ञापन
राष्ट्रीय

महंगाई, बेकारी भुलाओ, मस्जिद से मंदिर निकलवाओ!

इन सेकुलरवालों का बस चले तो ये तो कभी नया इंडिया बनने ही नहीं देंगे। अकेले मोदी जी आखिरकार किस-किस के विरोध की काट कर के, अपना नया इंडिया बनाएंगे? बताइए, नया इंडिया बनाने के लिए मोदी जी कुछ भी नया करें या दूसरों से कराएं या फिर दूसरों को करने ही दें, ये पट्ठे और कुछ नहीं भी मिलता है, तो ध्यान बंटाने की कोशिश का ही शोर मचा देते हैं।

चीखने-चिल्लाने लगते हैं कि असली मुद्दों से पब्लिक का ध्यान बंटाने की कोशिश हो रही है। आम लोगों के जीने-मरने के मुद्दों से ध्यान भटकाया जा रहा है। महंगाई, बेरोजगारी जैसे पब्लिक के पेट के सवालों से ध्यान बंटाने की कोशिश हो रही है, वगैरह-वगैरह। बेचारी सरकार कुछ भी करे या नहीं भी करे, इन्हें यही राग अलापना है।

योगी जी चुनाव को 80 बनाम 20 का चुनाव बनाएं, तब भी ध्यान बंटाने की कोशिश। कर्नाटक वाले बोम्मई भाई पहले हिजाब-हिजाब, फिर हलाल-वलाल कराएं, तब भी ध्यान बंटाने की कोशिश। राज ठाकरे साहब को मुखौटा बनाकर, फडनवीस साहब लाउस्पीकर से अजान के जवाब में, लाउडस्पीकर पर हनूमान चालीसा पढ़वाएं, तब भी वही ध्यान बंटाने की कोशिश।

व्यंग्य आलेख के लेखक वरिष्ठ पत्रकार – राजेन्द्र शर्मा

कोई ताजमहल के नीचे मंदिर खोजने जाए, तब भी ध्यान बंटाने की कोशिश। कोई कुतुब मीनार में विष्णु स्तंंभ से लेकर जैन मंदिर तक खोजकर दिखाए, तब भी ध्यान बंटाने की कोशिश। कोई दिल्ली की जामा मस्जिद को खुदवाने की मांग उठाए, तब भी वही ध्यान बंटाने की कोशिश। और तो और इनकी मानी जाए तो कश्मीर फाइल्स भी न सच है, न फिल्म, वह भी ध्यान बंटाने की ही कोशिश है।

और अब जब अयोध्या के बाद, न सिर्फ अदालतों में काशी और मथुरा की बारी आ चुकी है, बल्कि काशी में तो मस्जिद के हौज में चार सौ साल से गायब शिवलिंग भी बरामद कराया चुका है, तब भी इनके हिसाब से यह सब असली मुद्दों से पब्लिक का ध्यान बंटाने की ही कोशिश है! वह तो शुक्र है कि मोदी जी की फौज इनकी बात को ज्यादा सीरियसली नहीं लेती है और इनके या किसी और के कुछ भी कहने से, नया इंडिया बनाने के अपने मिशन में कोई ढील नहीं आने देती है। वर्ना सब अगर इन्हेें ध्यान बंटाने वाला ही मानने लगे तो, नया इंडिया कौन बनाएगा?

हम तो कहते हैं कि ये सेकुलर-सेकुलर करने वाले ही हैं, जो असली मुद्दों की तरफ से पब्लिक का ध्यान बंटाने की कोशिश कर रहे हैं। असल में तो महंगाई को, बेरोजगारी को, भूख को, बीमारी को असली मुद्दे बताना ही पब्लिक का ध्यान बंटाने की, उसे गुमराह करने की कोशिश है। नहीं, हम यह नहीं कह रहे हैं कि भूख, बेकारी वगैरह कोई मुद्दे ही नहीं हैं।

मुद्दे हैं, इससे मोदी जी ने कब इंकार किया है। लेकिन, क्या ये असली मुद्दे हैं? मोदी जी के विरोध में हमें इतना अंधा भी नहीं हो जाना चाहिए कि हम यही भूल जाएं कि आखिरकार ये सब रोटी के, पेट के ही मुद्दे हैं, इस भौतिक जगत के मुद्दे हैं। और हमारी प्राचीन भारतीय संस्कृति में और किसी बात पर हो या न हो, इस पर पूर्ण एकता है कि पेट के, रोटी के मुद्दे, असली मुद्दे नहीं होते हैं।

जब शरीर तक माया है, मिथ्या है, तो पेट, रोटी आदि के मुद्दे सत्य कैसे हो सकते हैं? लेकिन, ये दुष्टï सेकुलरवाले, जो मिथ्या है, उसी को सत्य बताते हैं और उसकी तरफ ही देखने का शोर मचाकर, सत्य यानी आत्मा के, आत्मा की रोटी के, आत्मा के पेट के मुद्दों की तरफ से, ध्यान बंटाते हैं। जब तक मिथ्या शरीर की भूख को भूलकर, सत्य आत्मा की भूख मिटाने की ओर नहीं बढ़ेगा इंडिया, तब तक पुराने के खोल को तोडक़र, बाहर कैसे आएगा नया इंडिया!

मोदी जी ने तो पहले ही दिन से कह दिया था कि जो सत्तर साल हुआ उसे बदलेंगे; जो सत्तर साल में नहीं हुआ, उसे ही कर के दिखाएंगे और एकदम नया इंडिया बनाएंगे। वही बना रहे हैं। पुराने भारत में भूख, गरीबी, बेकारी चाहे मिटी नहीं हो, पर उनकी चिंता खूब हो ली। अब मोदी जी आत्मा की भूख की चिंता पर ध्यान लगा रहे हैं। बेरोजगारी रिकार्ड बना रही है, पर नये इंडिया के लिए हम मस्जिद-मस्जिद के नीचे मंदिर की खोज करा रहे हैं।

अयोध्या के बाद काशी, मथुरा होते हुए, ताजमहल, कुतुब मीनार, जामा मस्जिद आदि-आदि सब का नंबर लगवा रहे हैं। रसोई गैस का सिलेंडर हजार रुपये से ऊपर चल गया है, पर हम मस्जिदों से लाउडस्पीकर और स्कूल-कालेजों में पढऩे वाली लड़कियों के हिजाब उतरवा रहे हैं। लोग गरीबी की रेखा के नीचे धंसते जा रहे हैं और हम मंदिरों को भव्य बना रहे हैं और अडानी-अंबानी को कंधे पर बैठाकर, अमीरी की सबसे ऊंची रेखा पार करा रहे हैं।

गंगा मुक्तिदायिनी से शववाहिनी बन गयी, पर हम मरने वालों के मरने को ही झुठला रहे हैं। प्रैस की स्वतंत्रता में भारत को रसातल तक पहुंचाने के बाद, अब पढ़े-लिखों की स्वतंत्रता का नंबर लगा रहे हैं और दिल्ली से लखनऊ तक, प्रोफेसरों, लेखकों, फिल्मकारों, व्यंग्यकारों वगैरह को जेल का डर दिखाकर सिखा रहे हैं कि मुंह खोलो, तो खूब आगा-पीछा देख के बोलो! ये ही तो नये इंडिया की निशानियां हैं।

मोदी जी को अच्छी तरह पता है कि उनका रास्ता एकदम सही है, पर नया इंडिया अभी दूर है। अभी डैमोक्रेसी का सत्तर साल पुराना सम्मोहन तोड़ना है, हिम्मतवर नेता से पब्लिक को और सीधे जोडऩा है। अभी सेकुलरिज्म केंचुल खोल छोड़ना है, घर-घर को मंदिर से जोड़ना है। अभी मोहब्बत के स्वांग बंद कराने हैं, हजारों साल पुरानी दुश्मनियों और बदलों का पिटारा खोलना है।

संविधान को समेटना है, धर्म-राज्य को फैलाना। अभी भी बहुत कुछ है, जो देसी-विदेशी दोस्तों को बेचकर ठिकाने लगाना है। कुल मिलाकर पुराना भारत मिटाना है, पुराने पाकिस्तान की तर्ज का नया इंडिया बनाना है। पर इसके लिए अभी भी कितना सारा काम पड़ा है। अठारह घंटे से बढ़ाकर अब से दिन में बीस-बीस घंटा लगाएंगेे, तब कहीं जाकर 2025 में मोदी जी नये इंडिया का उद्ïघाटन कर पाएंगे। तब तक महंगाई, बेकारी वगैरह का शोर मचाकर, जो इस साधना में बाधा डालते पाए जाएंगे, राष्ट्र धर्म-द्रोही करार देकर पाकिस्तान नहीं भी भेजे जा सकेंगे तो, जेल जरूर भेजे जाएंगे।

Show More

Related Articles

Back to top button