मनोरंजन
Trending

Amitabh Bachchan के 79वें जन्‍मदिन पर फैंटिको लेकर आया ‘शहंशाह’ जैकेट

मुंबई : अनिल बेदाग़: फैंटिको एक नॉन-फंजिबल टोकन (एनएफटी) प्‍लेटफॉर्म है, जो सिनेमा, संगीत, कला और खेलों की दुनिया के कलेक्टिबल्‍स पेश करता है, ताकि उपभोक्‍ताओं को यह दुर्लभ चीजें खरीदने का मौका मिल सके अमिताभ बच्‍चन (Amitabh Bachchan) की शहंशाह फिल्‍म का प्रसिद्ध जैकेट ऐसा ही एक कलेक्टिबल है, जो इस प्‍लेटफॉर्म पर नीलामी के लिये लाइव होने जा रहा है 

फैंटिको बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्‍चन के प्रशंसकों को उनके 79वें जन्‍मदिन पर उनके बेहतरीन कलेक्टिबल्‍स पाने का मौका दे रहा है। फैंटिको एक ऐसा प्‍लेटफॉर्म है, जो एनएफटी खरीदने में पारखी लोगों की मदद से कलेक्‍टर्स/ निवेशकों और प्रशंसकों के लिये सिनेमा, संगीत, कला और खेलों के क्षेत्र की संपदाएं बनाने पर फोकस करता है।   100 से ज्‍यादा फिल्‍मों और चार राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कारों तथा एक दादासाहब फालके पुरस्‍कार समेत अनगिनत राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय पुरस्‍कारों के साथ अमिताभ बच्‍चन बॉलीवुड का दूसरा नाम है।

फैंटिको उनके 79वें जन्‍मदिन को यादगार बनाने के लिये अपने प्‍लेटफॉर्म पर शहंशाह फिल्‍म का उनके कॅरियर का सबसे प्रसिद्ध कॉस्‍ट्यूम, दीवार फिल्‍म की एक ओरिजिनल बुकलेट और शोले फिल्‍म के 6 दुर्लभ शो कार्ड्स पेश कर रहा है।       

शहंशाह के डायरेक्‍टर और प्रोड्यूसर टीनू आनंद ने कहा, “शहंशाह के कॉस्‍ट्यूम को सच में आइकॉनिक बनाने में बहुत खून-पसीना लगा है। डिजाइनर को यही कहा गया था कि हमें एक देखने लायक कॉस्‍ट्यूम चाहिये, जो पहले किसी ने न देखा हो और जिसे देखकर दर्शकों की सांसें थम जाएं। और जब क्रू ने श्री बच्‍चन को पहली बार सेट पर वह जैकेट पहने देखा, तब बिलकुल वही हुआ। वह उनके शानदार कॅरियर का सबसे ज्‍यादा पसंद किया गया कॉस्‍ट्यूम बन गया। किसी कलेक्टिबल से जुड़े पलों को सामने रखना ही नहीं, बल्कि दर्शकों को उस तक पहुँच देना भी महत्‍वपूर्ण है और फैंटिको यही हासिल करने की कोशिश में जुटा है।    

विस्‍टास मीडिया कैपिटल के ग्रुप सीईओ और को-फाउंडर अभयानंद सिंह ने कहा, “फैंटिको अपनी तरह का अनोखा प्‍लेटफॉर्म है, जो सिनेमा, संगीत, कला और खेलों के हर प्रशंसक को इन दुर्लभ कलेक्टिबल्‍स को पाने का मौका देता है। बिग बी हिन्‍दी फिल्‍म इंडस्‍ट्री के महानायक हैं और यह उनका 79वां जन्‍मदिन है, इसलिये उनके कलेक्टिबल्‍स को दुनिया के सामने रखने के लिये इससे बेहतर दिन नहीं हो सकता था।‘

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button