छत्तीसगढ़
Trending

Chhattisgarh News: सुभाषनगर में हाईमास्क लाइट लगाने के लिए बनाए जा रहे बेस में भारी अनियमितता

Chhattisgarh News: प्रसंजीत सरकार: पखांजुर- कांकेर जिले के कोयलीबेड़ा ब्लॉक में विधायक फंड से अलग अलग ग्रामपंचायतों के चौराह पर क्रेडा विभाग द्वारा 26 हाईमास्क लाइट लगया जा रहा है,ताकि तेज रोशनी से चौराहों को उजाला किया जा सके,वही मटोली सहित पीव्ही 12(सुभाष नगर) में हाईमास्क लाइट लगाने के लिए गद्दा खोद कर सिविल बनाया गया है,बतादे की संबंधित विभाग के अधिकारियों की साठगांठ से पेटी ठेकेदार ने बेस ढलाई ना करते हुए लोहे की छड़ से बना जाली को जमीन(मिट्टी) पर रख कर सीधा पिलर की ढलाई सिविल बनवा दिया।

पीव्ही 12 हाईमास्क सिविल निर्माण कार्य में नई तकनीक से सिविल निर्माण कार्य किया गया है कार्य में देखा गया है जहाँ नियम अनुसार 4एमएम गिट्टी एव रेत तथा सीमेंट से बेस ढलाई कर उसके ऊपर लोहे से बना जाली डाल कर कंक्रीट ढलाई कर पिलर की ढलाई किया जाना था मगर ठेकेदार ने अधिक मुनाफा कमाने के लिए निर्माण कार्य को बेस ढलाई ना करते हुए मिट्टी पर ही लोहे से बना हुआ जाली को रख कर जाली में कंक्रीट ना करते हुए सीधा रूखा सूखा घटिया क्वालिटी की कंक्रीट कर पिलर/सिविल को निर्माण किया गया है।इस कार्य को देखते हुए ग्रामीणों ने नारजगी जाहिर किया तो ठेकेदार द्वारा काम को बंद कर दिया गया,ठेकेदार को ग्रामीणों का शिकायत करना ठीक नही लगा गुस्से में आकर काम बंद कर दिया गया घटिया निर्माण ग्रामीण नही चाहता ग्रामीणों का कहना है कि इस बेस को तोड़ कर फिर से सही बनाया जाय अन्यथा कोई जरूरत नही की इस बेस में हाईमास्क लाइट लगाए।

वही मामले की जानकारी के लिए जब क्रेडा विभाग के कोयलीबेड़ा ब्लॉक इंचार्ज चेतन गावड़े की मोबाइल पर फोन किया गया तो उनका नंबर नही लगा तो जिला प्रभारी देवांगन से फोन के माध्यम से निर्माण कार्य को लेकर बात की गई तो उन्होंने बताया कि असरसीसी/बेस ढलाई के ऊपर लोहे की जाली बिठा कर 4इंच ढलाई कर फिर पिलर/सिविल की ढलाई किया जाना है,अगर ऐसा निर्माण कार्य किया गया है तो तोड़ कर गुणवत्तापूर्ण निर्माण कर हाईमास्क लाइट लगाया जायेगा,मगर जमीनी हकीकत तो कुछ ओर बयान कर रहे हैं खैर देखने वाली बात ये होगी कि क्रेडा विभाग के अधिकारी की बाते जमीनी स्तर पर कितनी कारगार सावित होता हैं।

Show More
Back to top button