छत्तीसगढ़राजनीति
Trending

छत्तीसगढ़: कांग्रेस सरकार आने के बाद हिंदुत्व खतरे में- BJP

रायपुर। कवर्धा में हुए विवाद को लेकर सियासी संग्राम जारी है. भाजपा इस मामले को लेकर अब राजभवन तक जाने वाली है. कल BJP के बड़े नेता जहाँ कवर्धा दौरे पर थे, आज उन्होंने प्रेसवार्ता कर सरकार पर कई आरोप भी लगा दिए. भाजपा नेताओं ने प्रेसवार्ता कर पूरे मामले में न्यायिक जाँच की मांग की है. नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि हम कवर्धा के हालात का जायज़ा लेने गए थे. कवर्धा में नवरात्रि के पहले पुराना ध्वज हटाकर नया लगाने की परंपरा रही है. ध्वज लगाने के बाद अधिकारियों को बुलाया गया. अधिकारियों ने दुर्गेश देवांगन को बुलाकर ध्वज निकलवाया. इसके ठीक बाद एक भीड़ आई और दुर्गेश को अधिकारियों की मौजूदगी में पिटा गया. इसके बाद दोनों समुदायों के बीच झड़प के हालात बने.

एक समुदाय से जुड़े लोगों के ख़िलाफ़ ज़्यादा FIR दर्ज की गई. दूसरे समुदाय के कम लोगों के ख़िलाफ़ प्रकरण बना. कई ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ भी एफआईआर दर्ज की गई, जो वहां नहीं थे. छत्तीसगढ़ सरकार के संरक्षण में कम चल रहा है. घटना को लेकर कलेक्टर-एसपी जि़म्मेदार है, लेकिन अब तक किसी पर कार्रवाई नहीं हुई. धरमलाल कौशिक ने कहा कि बीजेपी इस मामले में कल राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेगी. हम इस पूरे मामले में न्यायिक जांच की मांग कर रहे हैं. दूसरे समुदाय के ऐसे लोग जिनके ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज हुई है, लेकिन गिरफ़्तारी नहीं हुई. ऐसे लोगों की गिरफ़्तारी की जाए. बेवजह गिरफ़्तार किए गए लोगों की निशर्त रिहाई की जाए

प्रशासन की नादानी की वजह से घटना : पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि इस घटना की तैयारी लंबे समय से की जा रही थी. 3 तारीख़ को घटना को रोका जा सकता था. भगवा ध्वज शौर्य का प्रतीक है. सनातन परम्परा का प्रतीक है. ये बीजेपी, कांग्रेस का झंडा नहीं था. धर्मातरंण के मामले को हम लगातार उठा रहे हैं. प्रशासन ऐसे मामलों को संरक्षण दे रहा है. कवर्धा में पथराव शुरू करने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई क्यों नहीं हुई.

इस घटना का ही विरोध था कि गाँव-गाँव से लोग 5 तारीख़ को वहां पहुंचे. शहर के बाहर बीस हज़ार से ज़्यादा लोगों ने चक्काजाम किया. प्रशासन की नादानी की वजह से घटना घटित हुई. मुख्यमंत्री हाईकमान को खुश करने उत्तर प्रदेश की सैर कर रहे हैं. गृहमंत्री लापता है. प्रभारी मंत्री अज्ञातवास पर हैं. पीडि़त परिवारों से मिलने की मांग हमने की थी, लेकिन हमें सर्किट हाउस में रोक दिया गया. हमने लोगों से अपील की है कि शांति व्यवस्था बनी रहे

आईजी सिन्हा की गिरफ्तारी की मांग, भाजपा नेताओं ने डीजीपी को भेजा ज्ञापन : कवर्धा कांड पर बयान देने वाले दुर्ग आई विवेकानंद सिन्हा के खिलाफ एफआईआर करने और गिरफ्तार करने की मांग करते हुए भाजपा नेताओं ने पुलिस महानिदेशक के नाम ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन सौंपने वालों में पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर और भाटापारा विधायक शिवरातन शर्मा आदि शामिल हैं। गौरतलब है कि आज दोनों भाजपा नेता कवर्धा में मौके पर जाना चाहते थे। वे रवाना भी हो चुके थे,

लेकिन कवर्धा के बाहर ही नेशनल हाइवे पर दोनों नेताओं को पुलिस ने बेरिकेड्स लगाकर रोक लिया। वे वहीं धरने पर बैठ गए और आईजी सिन्हा के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करने लगे। धरने पर बैठे अजय चंद्राकर ने कहा कि ये वही पुलिस अफसर हैं, जिन्होंने तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष नंदकुमार साय का अंग-भंग किया था। और अब, कवर्धा कांड पर अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर बयान दे रहे हैं कि कवर्धा में माहौल बाहर से आए भाजपाइयों ने बिगाड़ा है। गौरतलब है कि आज नेशनल हाइवे पर धरने में बैठे-बैठे दोनों नेताओं ने फोन पर कलेक्टर से बातचीत की, लेकिन इसके बाद भी उन्हें धारा 144 प्रभावशील इलाके में प्रवेश से रोका गया। ज्ञातव्य है कि कवर्धा में आज धार 144 का तीसरा दिन है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button