विज्ञापन
प्रदेश
Trending

CBI ने एबीआईएल कंस्ट्रक्शन ग्रुप के हेड Avinash Bhosale को किया अरेस्ट

सीबीआई (CBI) ने एबीआईएल कंस्ट्रक्शन ग्रुप के हेड अविनाश भोसले को अरेस्ट (Avinash Bhosale) किया है. अविनाश भोसले का नाम दीवान हाऊसिंग फाइनांस लिमिटेड (DHFL) और यस बैंक घोटाले में आया था. अविनाश भोसले पुणे के बड़े कंस्ट्रक्शन व्यापारी हैं. उन्हें पुणे के रिएल स्टेट किंग के तौर पर जाना जाता है. पिछले कुछ समय से अलग-अलग कई मामलों में अविनाश भोसले से पूछताछ की जा रही थी. कुछ दिनों पहले उनके मुंबई और पुणे के ठिकानों में सर्च ऑपरेशन किए गए थे. डीएचएफएल घोटाला से जुड़े मामले में उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया था. इसी मामले में सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें अरेस्ट किया है

यह मामला साल 2018 का है. उस साल अप्रैल से जून के बीच हजारों करोड़ रुपए एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर किए गए थे. उसमें बड़े उद्योगपतियों कंपनियां शामिल थीं. इसी मामले में अविनाश भोसले, संजय छाबड़िया, शाहीद बलवा और गोयनका का नाम शामिल था. अप्रैल के आखिर में इस मामले में CBI ने कई ठिकानों पर छापेमारी की थी. अब जाकर सीबीआई ने अविनाश भोसले को अरेस्ट कर लिया है

गुरुवार को दो केंद्रीय जांच एजेंसियों ने महाराष्ट्र में दो बड़ी कार्रवाई की है. मुंबई में साढ़े तेरह घंटे तक ईडी ने परिवहन मंत्री अनिल परब से संबंधित सात ठिकानों पर छापेमारी की तो सीबीआई ने पुणे के बड़े रियल स्टेट कारोबारी अविनाश भोसले को गिरफ्तार कर लिया. इन दोनों ही कार्रवाइयों की वजह से महाराष्ट्र के राजनीतिक गलियारों में खलबली मच गई है. अनिल देशमुख और नवाब मलिक की गिरफ्तारी के बाद अनिल परब महाविकास आघाडी सरकार के तीसरे और शिवसेना के पहले मंत्री हैं, जिनके खिलाफ इतनी बड़ी कार्रवाई की गई है. मुंबई महानगरपालिका का चुनाव नजदीक है और इसमें सालों से शिवसेना की सत्ता कायम रही है. अनिल परब सीएम उद्धव ठाकरे के करीबी बताए जाते हैं

यस बैंक के तत्कालीन अध्यक्ष राणा कपूर ने डीएचएफएल में 3700 करोड़ रुपए कर्ज और निवेश के तौर पर दिया था. इसके लिए उन्हें 600 करोड़ रुपए की दलाली मिलने की बात सामने आई थी. इसके बाद डीएचएफएल ग्रुप ने ये पैसे छाबड़िया के रेडियस ग्रुप, भोसले के इन्फ्रा लिमिटेड और बलवा और गोयनका की कंपनियों में गलत तरीके से घुमा दिए. इसके बाद छाबड़िया को अरेस्ट किया गया था और भोसले, बलवा और गोयनका के ठिकानों पर सीबीआई ने छापेमारी की थी. डीएचएफएल ने यस बैंक से कर्ज के तौर पर लिए 750 करोड़ को इस्तेमाल ही नहीं किया और उसे हेराफेरी कर के कहीं और घुमा दिया

अविनाश भोसले ने अपने कामधंधे की शुरुआत एक रिक्शाचालक के तौर पर की थी. किराए के घर में रहने वाले भोसले ने इसके बाद ऑटो रिक्शा खरीद कर भाड़े पर देने की शुरुआत की. इसके बाद वे रियल स्टेट के धंधे में उतरे और नेताओं से पहचान का फायदा उठा कर सरकारी कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने लगे. आज हजारों करोड़ के एबीआईएल ग्रुप के वे मालिक हैं. पुणे में उन्हें रियल स्टेट किंग के तौर पर जाना जाता है

विज्ञापन
Show More

Support Us!

‘प्रबुद्ध जनता’ जनवादी पत्रकारिता करता है। यह संविधान, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय पर चलने वाला एक डिजिटल मीडिया है। अगर आप भी चाहते हैं कि ‘प्रबुद्ध जनता समाचार’ हमेशा हाशिए पर खड़े लोगों की आवाज़ बुलंद करता रहे और तुरंत की सभी लेटेस्ट खबरे आप तक पहुंचाता रहे तो इसे हम तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करेंगें इसलिए हमारी आपसे यह अपील है कि आप स्वेच्छा से प्रबुद्ध जनता समाचार का सहयोग करें। जिससे हमारी समाचार कवरेज़ खासकर फील्ड रिपोर्टिंग को मदद मिल सके।

Related Articles

Back to top button