अपराधमनोरंजन
Trending

कोरियोग्राफर Ganesh Acharya के खिलाफ केस दर्ज, यौन शोषण का आरोप

कोरियोग्राफर गणेश आचार्य (Ganesh Acharya) बॉलीवुड इंडस्ट्री का एक जाना माना नाम हैं, जिन्होंने अपने दम पर लोगों के बीच खास जगह बनाई है। गणेश आचार्य की कोरियोग्राफी की दुनिया हद से परे दीवानी है, लेकिन अब यह लोकप्रिय कोरियोग्राफर कानूनी विवादों में घिरते नजर आ रहे है। मुंबई पुलिस ने साल 2020 में एक महिला कोरियोग्राफर की ओर से दर्ज कराए गए मामले में गणेश आचार्य पर उत्पीड़न, पीछा और ताक-झांक करने का आरोप लगाकर एक आरोप पत्र दायर किया है

मामले की जांच कर रहे ओशिवारा पुलिस स्टेशन के अधिकारी संदीप शिंदे ने बताया कि इस मामले में हाल ही में अंधेरी में संबंधित मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की आदालत में आरोप पत्र दायर किया गया है। गणेश आचार्य के साथ काम करने वाली को-डांसर ने कोरियॉग्राफर पर ये आरोप साल 2020 में लगाए थे। खबरों के अनुसार कोरियोग्राफर गणेश आचार्य और उनके सहायक पर धारा 354-ए (यौन उत्पीड़न), 354-सी (दृश्यरतिकता, 345-डी (पीछा करने), 509 (महिला की विनम्रता का अपमान करना), 323 (चोट पहुंचाना), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान), भारतीय दंड संहिता की धारा 506 (आपराधिक धमकी) और 34 (अपराध करने का सामान्य इरादा) के तहत आरोप लगाए गए हैं। वहीं, इस मामले में अभी तक गणेश आचार्य की ओर से कोई बयान सामने नहीं आया है।

महिला कोरियोग्राफर ने साल 2020 में गणेश आचार्य पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जब वह उनके दफ्तर में काम करने के लिए जाती थीं, तो वह उनपर गलत टिप्पणियां करने के साथ ही अश्लील वीडियो देखने के लिए कहता था। कोरियोग्राफर ने उन्हें यौन उत्पीड़न को ठुकराने के बाद परेशान करना शुरू कर दिया। जब महिला ने इनकार किया तो छह महीने बाद ही भारतीय फिल्म और टेलीविजन कोरियोग्राफर एसोसिएशन ने उनकी सदस्यता समाप्त कर दी थी। इतना ही नहीं, महिला ने ये भी आरोप लगाया था कि जब उन्होंने एक मीटिंग में गणेश आचार्य का विरोध किया तो उनके साथ मारपीट की गई। उन्होंने कहा कि महिला सहायकों ने मारपीट करने के साथ ही उन्हें गालियां भी दीं, जिसके बाद ही उन्होंने पुलिस के पास जाने का फैसला लिया। लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया, इसके बाद मैंने वकील की मदद केस दर्ज कराया

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button