बिहार
Trending

Bihar News: चार लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

Bihar News: गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर थाने के सोनवलिया व बसहां गांव में तीन लोगों की मौत के बाद अब कुचायकोट में तीन व फुलवरिया में एक शख्स की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। पुलिस -प्रशासन संदिग्ध मौतों की तफ्तीश में जुटी हुई है। अब तक पुलिस की जांच में शराब पीने से मौत होने की पुष्टि नहीं हुई है। परिजन भी बीमारी के कारण मौत होने की बात कह रहे हैं।

गोपालगंज जिले में संदिग्ध मौत का सिलसिला दो दिनों से थमने का नाम नहीं ले रहा है। संदिग्ध स्थिति में मरने वाले लोगों में कुचायकोट थाने के शिवराजपुर गांव के बालखिला यादव के पुत्र हरेन्द्र यादव की मौत रविवार की सुबह सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में हो गई। हरेन्द्र को पेट दर्द, घबराहट व बेचैनी की शिकायत पर सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। परिजन शव का बिना पोस्टमार्टम कराए ही घर लेकर भाग गए।

इसी गांव के फूलचंद साह के पुत्र हीरालाल साह को भी पेट दर्द की शिकायत हुई थी। परिवार के सदस्य इलाज कराने के लिए अभी लेकर जाने ही वाले थे कि उसकी मौत घर पर हो गई। उधर, कुचायकोट थाने के रामगढ़वा गांव में भी ठग यादव के पुत्र साहेबलाल यादव की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हो गई। इसे भी पेट दर्द, बेचैनी व घबराहट हो रही थी। साहेब की भी मौत घर पर ही हुई है। फुलवरिया के पेंदूला रामसेन गांव के ओम प्रकाश भगत के परिजन तो उन्हें इलाज के लिए लेकर सदर अस्पताल में पहुंचे थे। जहां उसकी मौत हो गई

शिवराजपुर गांव के दो रामगढ़वा गांव के एक व फुलवरिया के पेंदूला रामसेन गांव के एक शख्स की हुई मौत के बाद परिवार के किसी भी सदस्यों ने शराब पीने की पुष्टि नहीं की। पुलिस भी संदिग्ध मौतों की जांच करने के लिए उनके घरों तक पहुंची। परिजनों व आसपास के लोगों से पूछताछ भी की। मगर किसी ने शराब पीने से बीमार होने व मौत होने की बात नहीं स्वीकारी। ऐसे में सबकी स्वभावित मौत होना बताया जा रहा है। सदर एसडीपीअे संजीव कुमार ने कहा है कि कुचायकोट के शिवराजपुर में तीन लोगों के मरने की सूचना मिली थी। मामले की जांच की गई। सबकी स्वाभावित मौत हुई है। फुलवरिया के पेंदूला में भी एक शख्स के मरने की सूचना मिली थी। उसकी भी मौत स्वभाविक हीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button