छत्तीसगढ़
Trending

बस्तर साँसद Deepak Badge ने लोकसभा में उठाया कोविड-19 महामारी से उत्पन्न स्थिति का मुद्दा

Aniket Shivhare

⏭️बस्तर साँसद दीपक बैज (Deepak Badge) ने लोकसभा में नियम 193 के अंतर्गत वैश्विक महामारी कोविड-19 से उत्पन्न गम्भीर स्थिति का मुद्दा उठाया है,साँसद बैज ने वैश्विक महामारी कोविड-19 से उत्पन्न गम्भीर स्थिति का जिम्मेदार केंद्र सरकार को बताया,साँसद बैज ने सभापति के माध्यम से केंद्र सरकार को घेरते हुवे कहा..वैश्विक महामारी कोविड-19 ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया क्योंकि यह बीमारी बाहरी देश से आई हुई बीमारी है,जब कोविड-19 हमारे देश में आया भी नहीं था तब हमारे नेता राहुल ने कहा था कि इस बीमारी को केंद्र सरकार गम्भीरता से ले उचित पहल करे देश इस बीमारी से संकट में आएगा परन्तु यह सरकार गम्भीर नही हुई और पूरे देश को संकट में डालने का काम किया..वही जब कोविड-19 की पहली लहर आई तब सरकार ने आनन फानन में असफल लॉकडॉउन लगाया,सरकार द्वारा लॉकडॉउन लगाना सही है किंतु इस सरकार ने किसी भी राज्यो के मुख्यमंत्रीयो से न ही किसी जनप्रतिनिधियों से सलाह नही लिया और न ही विपक्षी पार्टियों से कोई सलाह मशवरा किया,इस सरकार को यह भी नहीं मालूम था कि इस देश के कितने मज़दूर अपने प्रदेश से आकर अन्य प्रदेश में फंसे हुए हैं,जब लॉकडॉउन लगाया गया था.

तब यह मज़दूर 8-10 दिन तक इंतजार में बैठे रहे,परन्तु बढ़ते लॉकडॉउन में मजबूर यह मज़दूर असहनशीलता व सुविधाओं के अभाव में पैदल चलने को मजबूर हो गए,न ही इन मज़दूरों के पास खाने को खाना था पीने को पानी नही था पैरो में जुते न ही चप्पल,बेघर मज़दूरों के पैरों में छाले पड़ गए जो कि केंद्र सरकार की सबसे बड़ी विफलता है.जब देश की जनता इस वैश्विक महामारी कोविड-19 से झूझ रहा था,तब सरकार ने जनता को सड़को पर मरने के लिए छोड़ दिया,साँसद बैज ने आगे कहा..इस सरकार ने देश की जनता से ताली,थाली बजवाया अगरबत्ती, टॉर्च जलवाया न जाने क्या क्या करवाया इससे न ही कोरोना भागा न ही कोरोना खत्म हुआ जो कि सिर्फ इस सरकार की जुमलेबाजी साबित हुई है और इस तरह केंद्र सरकार की पूरी तरह नाकाम रही.साँसद बैज ने आगे कहा..जब कोविड-19 की दूसरी लहर आई तो देश को तहस नहस करके रख दिया,सरकार को पहले से ही दूसरे लहर की आशंका थी तब भी यह सरकार गम्भीर नही थी,क्योंकि सरकार को चुनाव की तैयारी कर रही थीजब देश की जनता कोविड-19 से लड़ रहा था तब पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और इनके मंत्रिमंडल चुनाव की तैयारियों पर लगे हुवे थे,देश के अस्पतालों में मरीजों के लिए जगह नहीं थी मरीजो के लिए न ही वेंटिलेटर थे और न ही आक्सीजन की उपलब्धता थी लोग सड़कों पर मरीज बनकर पड़े हुए थे किंतु यह सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा था और इस सरकार को जनता की बिल्कुल चिंता नहीं थी..

🔼साँसद बैज ने आगे कहा-इस देश में ऐसी तसवीर भी सामने आई जब एक महिला अपने पति को बचाने के लिए अपने मुंह सांस देती रही फिर भी वह अपने पति को नही बचा पाई और हमारे प्रधानमंत्री पश्चिम बंगाल में भाषण देते रहे,उत्तरप्रदेश में लाशों की ढेर लग गई उन्हें दफनाने, जलाने के लिए जगह नहीं थी कुत्ते लाश को नोचते रहे,और इस स्थिति को पूरे देश ने देखा है जिसके जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ इस देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है,जब केंद्र सरकार द्वारा वैक्सीनेशन का कार्य राज्य सरकारो के ऊपर छोड़ दिया गया और न ही वैक्सीन दिया गया,मैं धन्यवाद देता हूँ हमारे छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार का जिसने सबसे पहले प्रदेश की जनता को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक किया और केंद्र सरकार से वैक्सीन खरीदकर छत्तीसगढ़ में वैक्सीनेशन का कार्य करवाया।और पूरे प्रदेशो के दबाव में आकर आपने वैक्सीन देने का काम किया

साँसद बैज ने सभापति से आगे कहा-कोविड-19 से गम्भीर स्थिति का एक उदाहरण मेरे लोकसभा छेत्र का भी है मेरे लोकसभा छेत्र में एक टीचर जब कोविड पॉजिटिव हुआ तब उसकी पत्नी को भी घर पर क़वारेंटाइन किया गया था,जब टीचर पति की मौत हुई तब पति के मौत के सदमे से पत्नी की भी मौत हो गई,और इंनके दो बच्चियां भी थी जिनको यह भी नहीं पता अब इस दुनिया में हमारे माता पिता नही रहे सबेरे तक बच्चियां रोती रही ऐसी हालत को हमने अपने छेत्र व छत्तीसगढ़ में भी देखा है और इस स्थिति को देखते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महातारी दुलार योजना के तहत पूरा उन दोनों बच्चियों का खर्च उठाने का निर्णय लिया,सरकार के अनुसार तीसरी लहर आने वाली है.बच्चो के लिए सरकार ने क्या तैयारी किया है इस सरकार को यह बताना चाहिए,साँसद बैज ने कहा,सामने उत्तरप्रदेश का चुनाव है सरकार का मिशन यूपी चुनाव में भाषण देने का तो नही है देश दूसरी लहर से पहले ही डरा हुआ है,ओमिक्रोन की दस्तक व तीसरी लहर को अनदेखा न कर केंद्र सरकार को गम्भीरता से लेना चाहिए,अपनी नाकामी छुपाने देश के टीवी पर आकर रोने औऱ बोलने से कुछ नहीं,इससे देश नही चलता आपको इसकी पूरी जिम्मेदारी आपको उठानी पड़ेगी।

Show More

Related Articles

Back to top button