प्रदेश
Trending

Assembly By Election: पश्चिम बंगाल में जल्द उपचुनाव कराने की संभावना, चुनाव आयोग ने की बैठक

विधानसभा उपचुनाव (Assembly By Election) कराने को लेकर राज्य के चुनाव आयोग (Election Commission) के अधिकारियों ने बुधवार को केंद्रीय चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक में बंगाल के चुनाव अधिकारियों ने कहा कि फिलहाल बंगाल में उपचुनाव कराने में कोई दिक्कत नहीं है. ऐसे में उपचुनाव जल्द कराने की संभावना बढ़ गई है. छह नवंबर के पहले विधानसभा उपचुनाव हो जाते हैं और ममता बनर्जी निर्वाचित हो जाती हैं, तो सीएम की कुर्सी जाने का खतरा टल जाएगा, क्योंकि नंदीग्राम से हार के बाद सीएम को किसी ने किसी विधानसभा क्षेत्र से छह नवंबर के पहले निर्वाचित होना होगा.

बैठक में छह राज्यों के डिप्टी सीईओ (CEO) उपस्थित थे. सूत्रों के मुताबिक बंगाल के चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बंगाल में इसी माह उपचुनाव कराने की मांग की है. बंगाल की स्थिति को देखने के लिए केंद्रीय उप चुनाव आयुक्त सुनील जैन शीघ्र ही बंगाल का दौरा कर सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक चुनाव आयोग ने बुधवार की बैठक में तीन मुख्य मुद्दों को जानना चाहा. सबसे पहले, राज्य में कोविड की स्थिति कैसी है? दूसरा, पूजा की छुट्टी कब से कब तक है? तीसरा, राज्य में अभी बाढ़ की कैसी स्थिति है? बैठक में यह मुद्दा भी उठा कि मतदान में शामिल सभी लोगों को टीका लगाया गया है या नहीं?

बंगाल के चुनाव अधिकारियों ने कहा-अभी चुनाव कराने में नहीं है कोई परेशानी

राज्य आयोग के अधिकारियों ने कहा कि वे मतदान के लिए तैयार हैं. फिलहाल उपचुनाव कराने में कोई दिक्कत नहीं है, क्योंकि 10 से 24 अक्टूबर तक ऑफिस में अवकाश रहेगा. नतीजतन, अगर अभी मतदान की घोषणा की जाती है, तो 24 दिनों के अंदर मतदान कराने में कोई समस्या नहीं होगी. अन्य राज्यों ने भी बैठक के दौरान दशहरा, दिवाली और अन्य त्यौहारों का उल्लेख किया. कानून व्यवस्था का मुद्दा भी उठा. असम में बाढ़ के कारण वे फिलहाल मतदान करने को तैयार नहीं हैं.

बुधवार को हुई हैवीवेट बैठक में राज्य के मुख्य सचिव हरिकृष्ण द्विवेदी भी मौजूद थे. उस बैठक में शामिल होने पहले जिला प्रशासन की ओर से कोरोना और टीकाकरण की विस्तृत जानकारी भेजी गई. स्वास्थ्य सचिव ने जिलों के जिलाधिकारियों से रिपोर्ट ली कि कितने लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं और कितनों को टीका लगाया गया है? स्वास्थ्य सचिव ने मुर्शिदाबाद, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, कूचबिहार, नदिया और कोलकाता से विस्तृत रिपोर्ट ली है, क्योंकि इन जिलों में उपचुनाव होने हैं. सूत्रों के मुताबिक, रिपोर्ट से पता चलता है कि कोरोना के ज्यादातर मामले वस्तुतः न के बराबर हैं. बता दें कि बंगाल में सात विधानसभा केंद्रों में उपचुनाव प्रस्तावित हैं.

6 नवंबर के पहले सीएम ममता बनर्जी को होना होगा निर्वाचित

गौरतलब है कि तृणमूल नेताओं ने पिछले सप्ताह फिर चुनाव आयोग में जाकर शीघ्र उपचुनाव की मांग की थी. क्योंकि, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पास चुनाव जीतने के लिए 6 नवंबर तक का समय है. नहीं तो उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ेगी. चुनाव आयोग के नियम के अनुसार ममता बनर्जी को छह नवंबर के पहले निर्वाचित होना होगा. बता दें कि ममता बनर्जी नंदीग्राम से बीजेपी के नेता शुभेंदु अधिकारी के हाथों पराजित हुई थी. बीजेपी ने हालांकि स्पष्ट कर दिया है कि वह उपचुनाव नहीं चाहती है. बीजेपी ने इसका एक कारण राज्य में कोरोना की स्थिति को बताया है. बंगाल बीजेपी ने हाल ही में केंद्रीय नेतृत्व और चुनाव आयोग को चुनाव न कराने को लेकर 6 बिंदुओं के साथ एक पत्र दिया था. हालांकि, आज की बैठक के बाद कहा जा सकता है कि उपचुनाव होने की संभावना बढ़ गई है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button