विज्ञापन
प्रदेश
Trending

Assam Flood: असम में बाढ़ से बिगड़े हालात, 18 की मौत, 34 जिलों में बर्बादी का सैलाब

Assam Flood: असम में बाढ़ की स्थिति और खराब हो गई, जिसमें शनिवार को और चार लोगों की मौत हो गई, जिससे मरने वालों की संख्या 18 हो गई। अधिकारियों ने कहा कि राज्य के 34 जिलों में से 32 में 8.39 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अधिकारियों के अनुसार, कछार (2), नागांव और होजई जिलों में ताजा मौतें हुई हैं, जबकि कछार जिले में एक व्यक्ति लापता है। 

एक रिपोर्ट के मुताबिक 32 जिलों के 3,246 गांवों के 1,45,126 बच्चों सहित 8,39,691 लोग प्रभावित हुए हैं। आपदा प्रतिक्रिया बलों और स्वयंसेवकों की मदद से कुल 24,749 फंसे हुए लोगों को निकाला गया है। सभी प्रभावित क्षेत्रों में 499 राहत शिविर और 519 राहत वितरण केंद्र खोले गए हैं। राहत शिविरों में 92,124 लोग रह रहे हैं। वहीं 1,00,732 हेक्टेयर से अधिक फसल प्रभावित हुई है

बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने के काम में जुटी है सेना 

सेना, असम राइफल्स, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल, जिला प्रशासन के साथ मिलकर फंसे हुए लोगों को बचाने और उन्हें राहत देने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं। राज्य में सबसे अधिक प्रभावित स्थानों में अकेले नागांव जिले में 3,39,427 लोग, कछार जिले में 1,77,954 लोग, होजई जिले में 70,233, दरांग जिले में 44,382 लोग, करीमगंज जिले में 16,382 लोग प्रभावित हुए।

बैठक में बाढ़ से निपटने के कार्य में तेजी पर मंथन

तीन नदियों कोपिली, दिसांग और ब्रह्मपुत्र का पानी कई जगहों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। बाढ़ और भूस्खलन को देखते हुए मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ ने शनिवार को एएसडीएमए सहित सभी हितधारकों के साथ बाढ़ से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की और गंभीर रूप से प्रभावित जिलों में अतिरिक्त संसाधनों और सहायता प्रणाली को तैनात करके प्रतिक्रिया और वसूली सेवाओं में तेजी लाई।

हालात के आकलन के लिए यूनिसेफ ने तैनात की 7 टीमें

इस बीच, यूनिसेफ ने जमीनी स्थिति का आकलन करने के लिए राहत शिविर प्रबंधन एसओपी के अनुसार, बाढ़ राहत शिविरों की निगरानी में कछार, होजई, दरांग, विश्वनाथ, नगांव, मोरीगांव और दीमा हसाओ के डीडीएमए का समर्थन करने के लिए तकनीकी विशेषज्ञों और सलाहकारों की 7 टीमों को तैनात किया है। राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री जोगेन मोहन, स्वास्थ्य मंत्री केशब महंत, जल संसाधन मंत्री पीयूष हजारिका और पर्यावरण एवं वन मंत्री परिमल शुक्लाबैद्य सहित कई मंत्री बचाव और राहत कार्यो की निगरानी के लिए बाढ़ प्रभावित इलाकों में डेरा डाले हुए हैं।

बारिश से पूर्वोत्तर राज्यों के कई हिस्से देश से कटे

दीमा हसाओ जिले में पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) के पहाड़ी खंड में स्थिति शनिवार को गंभीर बनी रही, क्योंकि क्षेत्र में बारिश जारी रही। इससे लुमडिंग-बदरपुर सिंगल लाइन रेलवे मार्ग प्रभावित हुआ। इससे त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और दक्षिणी असम का हिस्सा देश के बाकी हिस्सों से कट गया

विज्ञापन
Show More

Support Us!

‘प्रबुद्ध जनता’ जनवादी पत्रकारिता करता है। यह संविधान, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय पर चलने वाला एक डिजिटल मीडिया है। अगर आप भी चाहते हैं कि ‘प्रबुद्ध जनता समाचार’ हमेशा हाशिए पर खड़े लोगों की आवाज़ बुलंद करता रहे और तुरंत की सभी लेटेस्ट खबरे आप तक पहुंचाता रहे तो इसे हम तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करेंगें इसलिए हमारी आपसे यह अपील है कि आप स्वेच्छा से प्रबुद्ध जनता समाचार का सहयोग करें। जिससे हमारी समाचार कवरेज़ खासकर फील्ड रिपोर्टिंग को मदद मिल सके।

Related Articles

Back to top button