महाराष्ट्र
Trending

Aryan Khan Drug Case: 18 करोड़ की डील में से Sameer Wankhede को मिलने थे 8 करोड़- प्रभाकर राघोजी

Advertisement

आर्यन खान ड्रग केस (Aryan Khan Drug Case) के पंचनामे में NCB के गवाह केपी गोसावी (KP Gosavi) के साथी प्रभाकर सेल ने आरोप लगाया है कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने उससे एक खाली पंचनामे पर डरा-धमकाकर साइन कराया गया था. बता दें कि गोसावी वही शख्स है जिसके साथ आर्यन खान की एक सेल्फी वायरल हुई थी और जिसे एनसीबी ने बाद में मामले में स्वतंत्र गवाह बताया था. प्रभाकर ने आगे कहा कि केपी गोसावी के ‘संदिग्ध रूप से लापता’ होने के बाद अब इसे भी एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े से जान का खतरा महसूस हो रहा है.

Advertisement

मिली जानकारी के मुताबिक प्रभाकर ने बताया कि वह गोसावी के के बॉडीगार्ड के तौर पर काम करता था. मुंबई में क्रूज पर पड़े छापे से पहले उसे और गोसावी को एक कोरे पंचनामे पर साइन करने के लिए मजबूर किया गया था. उसने ये भी दावा किया है कि क्रूज से ड्रग्स मिली थी या नहीं उसे ये मालूम नहीं है. प्रभाकर के मुताबिक ये वही कोरा पंचनामा है जिसे बाद में आर्यन के केस में इस्तेमाल किया गया है

शाहरुख की मैनेजर से मांगे गए थे 25 करोड़ रुपए!

उसके मुताबिक सैम से मुलाक़ात के बाद गोसावी किसी से फोन पर बात कर रहा था जिसमें ’25 करोड़ का बम’ रखने का जिक्र था और डील 18 करोड़ पर सेटल की जानी थी जिसमें से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को मिलने थे. इस बातचीत में शाहरुख खान की मैनेजर पूजा डडलानी से ये पैसे लेने का जिक्र था. पूजा डडलानी फोन नहीं उठा रही थी, इस बात का भी जिक्र एफिडेविट में किया गया है

प्रभाकर ने आगे बताया कि मुंबई क्रूज में रेड से पहले गोसावी NCB दफ्तर के पास किसी ‘सैम डिसूजा’ नाम के शख्स से मिला था. प्रभाकर ने आगे कहा कि छापेमारी के दौरान उन्होंने बड़ी सावधानी से कुछ वीडियो और तस्वीरें ली थीं. एक वीडियो में साफ़ नज़र आ रहा है कि गोसावी ने हिरासत में लिए जाने से पहले आर्यन खान की किसी से फोन पर बात कराई थी. उसने इसके पीछे बड़ी साजिश का शक भी जाहिर किया है.

प्रभाकर सेल ने यह भी बताया कि उसे पंच विटनेस बनाने के लिए समीर वानखेडे और NCB के अधिकारियों ने करीब 7 से 8 पेज पर उसका साइन लिया जो ब्लैंक पेज थे. प्रभाकर सेल ने एक वीडियो स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा कि समीर वानखेड़े से उसे खतरा है , क्योंकि उसकी भी इंक्वायरी शुरू है.

प्रभाकर ने NCB पर उठाए सवाल

प्रभाकर ने दावा किया है कि NCB ने गोसावी को मजबूर कर मामले में गवाह बनाया था. उसने कहा कि गोसावी एक स्वतंत्र गवाह था और एक स्वतंत्र गवाह को छापेमारी की जानकारी कैसे मिल सकती है. उसने ये भी कहा कि पंचनामा पहले से ही तैयार कराया गया था और लोगों से पहले ही उस पर साइन भी करा लिए गए थे. प्रभाकर के मुताबिक इस साजिश के पीछे वह आदमी है जिससे गोसावी ने आर्यन की फोन पर बात कराई थी. इस बातचीत के बाद ही आर्यन को हिरासत में ले लिए गया था. प्रभाकर ने ‘सैम’ नाम के शख्स का भी पता लगाने की अपील की है जिससे गोसावी रेड से ठीक पहले मिला था

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button