अंतर्राष्ट्रीय
Trending

तालिबान के कहर के बीच राष्ट्रपति गनी देंगे इस्तीफा, Ali Ahmed Jalali को मिलेगी सत्ता

अफगानिस्तान में बड़ा सियासी फेरबदल होने जा रहा है. तालिबान की बढ़ती ताकत के बीच अफगानिस्तान में अब एक अंतरिम सरकार का गठन होना है जिसका हेड अली अहमद जलाली Ali Ahmed Jalali को बनाया जा रहा है. खबर है कि कुछ ही घंटों में अली अहमद जलाली को सत्ता सौंप दी जाएगी और अशरफ गनी का इस्तीफा हो जाएगा.

अली अहमद जलाली को मिलेगी सत्ता अली अहमद जलाली Ali Ahmed Jalali अफगानिस्तान के लिहाज से सिर्फ एक बड़े नेता नहीं हैं, बल्कि कूटनीति के मामले में भी काफी सक्षम हैं. कई मौकों पर अपने देश का प्रतिनिधित्व कर चुके जलाली के पास एक लंबा अनुभव है.

एक राजूदत से लेकर प्रोफेसर तक, एक कर्नल से लेकर सरकार में मंत्री तक, अली अहमद जलाली ने हर वो पद संभाला है जिस वजह से वे अफगानिस्तान की राजनीति को भी समझते हैं और तालिबान पर भी उनकी अच्छी पकड़ है

अफगानिस्तान के लिए क्यों अहम जलाली? बता दें कि अली अहमद जलाली का जन्म अफगानिस्तान में नहीं बल्कि अमेरिका में हुआ था. वे 1987 से अमेरिका के नागरिक थे और मैरीलैंड में रहते थे. बाद में साल 2003 में उनकी अफगानिस्तान में उस समय वापसी हुई थी जब तालिबान का कहर कम हो रहा था और देश को एक मजबूत सरकार की दरकार थी.

उस मुश्किल समय में जलाली को देश का इंटीरियर मिनिस्टर बनाया गया था. वे सितंबर 2005 तक इस पद पर बने रहे थे. इसके अलावा जब अफगानिस्तान में 80 के दशक में सोवियत संघ संग लंबा युद्ध चला था, तब भी अली अहमद जलाली ने एक सक्रिय भूमिका अदा की थी. उस समय वे अफगान आर्मी में कर्नल के पद पर थे. वहीं उस दौर में वे Afghan Resistance Headquarters के लिए शीर्ष सलाहकार की भूमिका भी निभा रहे थे.

ऐसे में मुश्किल समय में हर बार अली अहमद जलाली ने अफगानिस्तान के लिए निर्णायक काम किया है. जलाली का आना मजबूरी या मजबूती? अब तालिबान की बढ़ती ताकत के बीच भी उनसे इसी भूमिका की फिर उम्मीद की जा रही है. ऐसे चर्चे जरूर हैं कि इस नई अंतरिम सरकार में तालिबान की जरूरत से ज्यादा हस्तक्षेप रह सकती है, लेकिन अभी के लिए अफगानिस्तान के पास कोई और विकल्प नहीं है और जलाली पर भरोसा करना उनकी मजबूरी भी है और उम्मीद भी

Show More
Back to top button