कारोबार

गोदरेज एंड बॉयस ने अपनी स्वदेशी मेडिकल रेफ्रिजरेशन तकनीक के जरिए भारत के टीकाकरण अभियान को किया मजबूत 

मुंबई17 मार्च 2022: गोदरेज समूह की प्रमुख कंपनी, गोदरेज एंड बॉयस अपने बिजनेस गोदरेज अप्लायंसेज के माध्यम से 2015 से देश में टीकाकरण अभियान को मजबूत कर रही है। विशेष रूप से पिछले दो वर्षों में, वे भारत में चल रहे कोविड टीकाकरण अभियान में अपने उन्नत, मेड इन इंडिया, मेडिकल रेफ्रिजरेशन समाधानों के माध्यम से सहयोग कर रहे हैं। इन समाधानों को, विशेष रूप से केवल सही तापमान पर संवेदी टीकों की सुरक्षा के लिए तैयार किया गया है।

टीकों के भंडारण स्थान के तापमान में एक निर्दिष्ट सीमा से अधिक उतार-चढ़ाव होने पर उनके खराब होने का खतरा होता है जिसका असर स्वास्थ्य के साथ-साथ आर्थिक रूप में भी हो सकता है। गोदरेज अप्लायंसेज अत्याधुनिक रेफ्रिजरेशन समाधान उपलब्ध कराता है जो टीकों को सुरक्षित रखने के साथ-साथ देश के टीकाकरण मिशन में भी सहायक हैं। उन्होंने पिछले एक साल में 24,000 से अधिक मेडिकल रेफ्रिजरेटर और फ्रीजर की आपूर्ति की है।

गोदरेज एंड बॉयस द्वारा प्रमुख रूप से नवाचार पर जोर दिये जाने के साथ, गोदरेज अप्लायंसेज ने मेडिकल रेफ्रिजरेटर्स की अपनी रेंज में विशिष्ट श्योर चिल टेक्नोलॉजी को एकीकृत किया। यह अत्याधुनिक तकनीक टीके और ब्लड बैंक स्टोरेज दोनों के लिए मेडिकल रेफ्रिजरेशन हेतु संपूर्ण समाधान प्रदान करती है। गोदरेज अप्लायंसेज वर्तमान में वैक्सीन रेफ्रिजरेटर्स का उपयोग कर रहा है जो भारत में अत्यधिक तापमान संवेदनशील कोवैक्सिन और कोवीशील्ड टीकों को स्टोर करने के लिए 2 डिग्री सेल्सियस से 8 डिग्री सेल्सियस का सटीक तापमान बनाए रखते हैं।

कोविड टीकाकरण अभियान को सुदूर जगहों तक पहुँचाने के लिए आवश्यक डाइलुएंट्स और आइस पैक्स के लिए भी मेडिकल फ्रीज़र्स का उपयोग किया जा रहा है जो तापमान को -20°C पर बनाये रखते हैं। इस पोर्टफोलियो में नये तौर पर अल्ट्रा – लो टेम्परेचर फ्रीजर्स को शामिल किया गया है और ये विशेष रूप से एमआरएनए आधारित टीकों के लिए उपयुक्त हैं जिनका उपयोग वर्तमान में अन्य देशों में किया जा रहा है।

गोदरेज अप्लायंसेज के बिजनेस हेडऔर एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, कमल नंदी ने कहा, “हमारा ‘मेड इन इंडिया मेडिकल रेफ्रिजरेटर’ आत्मनिर्भर भारत ‘के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। हमें गर्व है कि हमारे मेडिकल रेफ्रिजरेशन समाधानों ने देश में टीकाकरण कार्यक्रम में मदद की है और अनगिनत जिंदगियों को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है

इन वर्षों में, हमने नवीनतम तकनीक को अपनाया है और ऐसे मेडिकल रेफ्रिजरेटर और फ्रीजर बनाए हैं जो गंभीर स्वास्थ्य चुनौतियों के दौरान वितरित किए गए हैं। वर्तमान में, हमने अतिरिक्त मांग को पूरा करने के लिए अपनी विनिर्माण क्षमता बढ़ाई है।”

गोदरेज एप्लायंसेज को हाल ही में ‘कोविड संरक्षण परियोजना’ श्रेणी के तहत एकीकृत स्वास्थ्य और कल्याण (आईएचडब्ल्यू) परिषद द्वारा ‘इंडिया हेल्थ एंड वेलनेस अवार्ड्स 2020 – गोल्ड’ भी प्राप्त हुआ है, जो सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में जहाँ कोविड वैक्सिन को रखा गया और उपयोग में लाया गया था, वहाँ कोल्ड चेन को मजबूत करने में इसकी भूमिका के लिए दिया गया।

गोदरेज एंड बॉयस ने हाल ही में हेल्थकेयर सेगमेंट में प्रवेश किया और पिछले दो वर्षों में अपनी रेंज का विस्तार किया। वर्तमान में, स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र राजस्व का गोदरेज एंड बॉयस के कुल राजस्व में 10% से कम का योगदान है। कंपनी को महामारी के बाद भी इस क्षेत्र से महत्वपूर्ण संभावना नज़र आ रही है और यह आने वाले वर्षों में स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने की ओर अग्रसर है। गोदरेज एंड बॉयस का हेल्थकेयर कारोबार पिछले एक साल में 22 -25% के बीच बढ़ा है। आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रतिबद्ध होने के चलते, स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में गोदरेज एंड बॉयस द्वारा बिक्री किये जाने वाले लगभग 90% उत्पाद स्थानीय मूल्यवर्धन के माध्यम से हैं। वे स्थानीय विनिर्माण, सोर्सिंग और सहयोग के माध्यम से इस अनुपात को बढ़ाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button