छत्तीसगढ़

मेटगुडा में मिले महिला के संदेहास्पद शव की गुत्थी बस्तर पुलिस ने सुलझायी गला दबाकर की गई थी हत्या

राजा कोष्टा जगदलपुर:- पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा के नेतृत्व में बस्तर पुलिस द्वारा आपराधिक तत्वों के विरूद्ध लगातार कार्यवाही किया जा रहा है। इसी तारतम्य में दिनांक 21 सितंबर को मेटगुडा स्थित खम्हार के जंगल में मिले महिला के संदेहास्पद शव एवं घटित वारदात की गुत्थी को सुलझाने में बस्तर पुलिस को सफलता मिली है।

विज्ञापन

विवरणः-

दिनांक 21 सितंबर के सुबह मेटगुडा के खम्हार जंगल में महिला का शव संदिग्ध परिस्थिति में मिला था। मामले में जाॅच दौरान उक्त शव शारदा यादव उम्र 34 साल निवासी मेटगुड़ा सुंदर नगर के रूप में पहचान हुई। मामले में जाॅच जिसमें घटनास्थल निरीक्षण, शव पंचायतनामा एवं शव के पोस्टमार्टम रिपोर्ट एवं परिस्थतिजन्य साक्ष्यों के आधार पर उक्त महिला की हत्या होना पाये जाने से मामले में थाना बोधघाट में अज्ञात आरोपी के विरूद्ध हत्या (धारा 302 भादवि0) का अपराध दर्ज कर अनुसंधान में लिया गया था।

अनुसंधानः-
प्रकरण में पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक निवेदिता पाॅल के मार्गदर्शन एवं नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार, ललिता मेहर, गीतिका साहू, के पर्यवेक्षण में निरीक्षक माधुरी नायक, लालजी सिन्हा, एमन साहू , धनजंय सिन्हा के नेतृत्व में टीम गठित कर, मामले में अनुसंधान किया जा रहा था। दौरान विवेचना के घटनास्थल पर मिले साक्ष्य, तकनीकी साक्ष्य एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के अनुरूप आरोपी की पतासाजी की जा रही थी।

दौरान अनुसंधान के परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर मृतका के पति रवि यादव पर अपराध का संदेह होना पाया गया जिस पर रवि यादव से पूछताछ पर उसने दिनांक 21.09.2022 को अपनी पत्नी शारदा यादव की हत्या करना स्वीकार किया है। मामले में आरोपी के स्वीकारोक्ति पश्चात् मामले में आरोपी रवि यादव को थाना बोधघाट के द्वारा अपनी पत्नी शारदा यादव की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर, न्यायिक रिमांड पर न्यायालय भेजा जा रहा है।

तरीका वारदातः-
आरोपी रवि यादव से पूछताछ करने पर बताया कि वह मूलतः जगदलपुर का मेटगुडा का निवासी है, जो वाहन चालक का काम करता है जिसका विवाह वर्ष 2014 में शारदा यादव से हुआ था। दोनो पिछले 04 वर्ष से सुन्दर नगर मेटगुडा में रहते थे। शारदा यादव एवं उसके पति रवि यादव के मध्य संबंध ठीक नही था एवं शारदा यादव अपने पति रवि यादव के चरित्र पर शंका करती थी जिस कारण दोनो में अकसर वाद-विवाद होता रहता था।

इसी विवाद के कारण रवि यादव के द्वारा अपनी पत्नी शारदा यादव की हत्या करने की योजना बनाया एवं दिनांक 21.09.2022 को सुबह 06ः30- 07ः00 बजे जब शारदा यादव शौच करने के लिए खम्हार के जंगल की ओर गयी तब रवि यादव भी उसके पीछे-पीेछे दूसरे रास्ते से खम्हार जंगल की ओर गया और वह जंगल में छिपकर शारदा यादव के पास पहुॅचकर मौका देखकर शारदा यादव की गला दबाकर हत्या कर दिया एवं उक्त शव को जंगल में छिपाकर वापस अपने घर आ गया और कुछ देर बाद मोहल्ले के लोगो को यह बताया कि उसकी पत्नी सुबह शौच करने जंगल की ओर गयी थी जो वापस नही आयी है, यह बात बताकर वह मोहल्ले वासियो को गुमराह कर शारदा यादव को ढुंढने के बहाने मेटगुडा खम्हार जंगल एव रेल्वे स्टेशन की ओर गया।

बाद में जहा मोहल्लेवासियों के ढुढंने के दौरान शारदा यादव का शव मिलने पर उसने अपनी पत्नी के साथ हुए घटना को दूसरा स्वरूप देने की नियत से उसने जानकारी डायल 112 के माध्यम से अज्ञात आरोपी के द्वारा घटना दर्ज करने की रिपोर्ट दर्ज कराना बताया है ।

महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले अधिकारी:-
निरीक्षक- लालजी सिन्हा, धनंजय सिन्हा, एमन साहू, माधुरी नायक, तारिक हरीष
उप.निरी.- प्रमोद ठाकुर, गुनेश्वरी नुरेटी,
सहा.उप.निरी:- सतीश यादव, विश्वराज सोलंकी, सुदर्शन दुबे, वंदना चैहान
प्र.आर. :- उमेश चंदेल, लवण पानीग्राही, पवन श्रीवास्तव, चोवादास गेंदले, जोगीलाल बूडेक
आरक्षक:- भुपेन्द्र नेताम, संतोष झा, गायत्री तारम, सतीश ठाकुर, तोमेश्वर चन्द्राकर, गबरू कश्यप , विजय तिर्की

Show More

Related Articles

Back to top button