कारोबार

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का वित्त वर्ष’22 का राजस्व 4,083 करोड़ रुपये रहा, वित्त‍ वर्ष’21 की तुलना में 25 प्रतिशत अधिक

मुंबईमहिंद्रा लॉजिस्टिक्स लिमिटेड (एमएलएल), जो भारत के बड़े 3पीएल समाधान प्रदाताओं में से एक है, ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त तिमाही और पूरे वर्ष के लिए अपने लेखापरीक्षित समेकित वित्तीय परिणामों की आज घोषणा की।

वित्त वर्ष’21 की अंतिम तिमाही के मुकाबले वित्त वर्ष’22 की अंतिम तिमाही का प्रदर्शन    

·         राजस्व 1,073 करोड़ रुपये रहा जबकि पिछ्ले वर्ष यह 974 करोड़ रुपये था

·         एबिटा 61 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 51 करोड़ रु. था

·         कर-पूर्व मुनाफा (पीबीटी) 14 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 16 करोड़ रु. था

·         कर-पश्चात मुनाफा (पीएटी) 11 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 12 करोड़ रु. था

·         ईपीएस (डाइल्युटेड) 1.69 रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 1.74 रु. था

 

वित्त वर्ष’21 की तुलना में वित्त वर्ष’22 का प्रदर्शन

·         राजस्व 4,083 करोड़ रुपये रहा जबकि पिछले वर्ष यह 3,264 करोड़ रु. था

·         एबिटा 210 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 152 करोड़ रु. था

·         कर-पूर्व मुनाफा (पीबीटी) 46 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 39 करोड़ रु. था

·         कर-पश्चात मुनाफा (पीएटी) 35 करोड़ रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 29 करोड़ रु. था

·         ईपीएस (डाइल्युटेड)5.14 रु. रहा जबकि पिछले वर्ष यह 4.16 रु. था

निदेशक मंडल ने 20 प्रतिशत लाभांश (2 रु. प्रति शेयर) की सिफारिश की है

महत्वपूर्ण बिंदु – चौथी तिमाही, वित्त वर्ष 2021 -22

·         इस तिमाही के दौरान ड्युरेबल्स, एफएमसीजी और ई-कॉमर्स सहित नॉन-ऑटो एंड बाजारों में लगातार वृद्धि के चलते आपूर्ति श्रृंखला खंड में 11 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

·         ग्राहकों की आवश्यकताओं के अनुरूप समाधान-आधारित एप्रोच के चलते पिछली तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में वेयरहाउसिंग सेवाओं और समाधानों से प्राप्त राजस्व में 47% की वृद्धि हुई।

·         परिचालन क्षमता और लागत प्रबंधन में निरंतर सुधार और सफलता बनी रही।

·         प्रमुख ग्राहकों के रिटर्न टू वर्क प्रोग्राम्स पर महामारी की तीसरी लहर के चलते एंटरप्राइज मोबिलिटी रिकवरी प्रभावित हुई।

·         फ्रेट फॉरवर्डिंग ने दहाई अंकों में वृद्धि बनाए रखी।

प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, महिंद्रा लॉजिस्टिक्स के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारीश्री रामप्रवीन स्वामीनाथन ने कहा,

“हमें वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में अस्थिरता, चिप की कमी, ईंधन और कमोडिटी लागत के दबाव और कोविड -19 महामारी की निरंतर लहरों के चलते चुनौतीपूर्ण बाह्य परिवेश का सामना करना पड़ रहा है। इन बाधाओं के बावजूद, हमने अपने ग्राहकों को अनुकूलित, एकीकृत समाधान प्रदान करने की हमारी रणनीति के निष्पादन और खाता अधिग्रहण के दम पर वित्त वर्ष’21-22 की चौथी तिमाही में निरंतर वृद्धि की। हमारी राजस्व वृद्धि में ई – कॉमर्स, उपभोक्ता, ऑटोमोटिव और फ्रेट फॉरवर्डिंग व्यवसायों का योगदान रहा। आपूर्ति श्रृंखला में मजबूत गति ने एंटरप्राइज मोबिलिटी व्यवसाय में कोविड -19 महामारी की तीसरी लहर के प्रभाव के चलते आई कमी को पूरा किया है। हमने परिचालन क्षमता और मार्जिन वृद्धि में सुधार पर ध्यान केंद्रित रखा है।

Advertisement

‘द मूकनायक’ जनवादी पत्रकारिता करता है. यह संविधान, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय पर चलने वाला चैनल है. अगर आप भी चाहते हैं कि ‘द मूकनायक’ हमेशा हाशिए पर खड़े लोगों की आवाज़ बुलंद करता रहे, बेजुबानों की पीड़ा दिखाते रहे तो सपोर्ट करें !.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button