छत्तीसगढ़प्रदेश

नए वेरिएंट Omicorn से बचाव एवं पहचान हेतु आरटीपीसी जॉच बढ़ाने के निर्देश

Advertisement
Advertisement

कांकेर – दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिकॉर्न (Omicorn) को देखते हुए राज्य शासन ने समुचित निगरानी और व्यापक सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश के तीनों हवाई अड्डों रायपुर, बिलासपुर और जगदलपुर में हेल्प डेस्क स्थापित कर विदेश से आने वालों की स्क्रीनिंग, कोविड-19 जांच रिपोर्ट, टीकाकरण तथा भारत आने के बाद क्वारेंटाइन एवं कोरोना के लक्षण सम्बन्धी जानकारी लेते हुए केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार आवश्यक कार्यवाही करने कहा गया है। राज्य सर्वेलेंस इकाई से समन्वय कर सभी जिलों को प्रतिदिन विदेशों से अन्तर्राष्ट्रीय यात्रा कर आने वाले व्यक्तियों की जानकारी लेने के निर्देश दिए हैं। ऐसे व्यक्ति जिन्होंने भारत आने के बाद अपनी सात दिनों की क्वारेंटाइन अवधि पूरी नहीं की है, उन्हें सात दिनों के होम-क्वारेंटाइन का पालन सुनिश्चित कराने कहा गया है। इन व्यक्तियों के आठवें दिन आरटीपीसीआर जांच कराने और रिपोर्ट के धनात्मक आने पर सैंपल को डब्ल्यू.जी.एस. (Whole Genome Sequencing  ) जांच के लिए भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं।

उक्त निर्देशों के परिपालन में कलेक्टर श्री चन्दन कुमार ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व), सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक जिला चिकित्सालय कांकेर तथा सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को जिले में  कोरोना के नए वेरिएंट से बचाव एवं उसकी त्वरित पहचान के लिए कोविड-19 जांच की संख्या बढ़ाने को कहा है। उनके द्वारा सभी विकासखण्डों को आरटीपीसीआर एवं रैपिड ऐन्टीजेन जांच के लिए लक्ष्य निर्धारित किया गया है तथा उसके अनुरूप कोरोना जांच सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं, साथ ही कोरोना से बचाव के लिए कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर जैसे ‘‘मास्क लगाना, परस्पर दूरी का पालन करना एवं समय-समय पर हाथ धोना’’ का पालन करने के लिए व्यापक प्रचार करने के निर्देश दिये हैं। कोविड-19 से पॉजिटिव व्यक्ति की कान्टेक्ट ट्रेसिंग में विशेष ध्यान देते हुए उनके समस्त प्राइमरी व सेकेण्डरी कांटेक्ट का शत-प्रतिशत सैंपल जांच कराया जाना सुनिश्चित करने के लिए भी निर्देशित किया गया है।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button