छत्तीसगढ़प्रदेश

गाज गिरने की स्थिति में विशेष सावधानियों का पालन करने की सलाह

कांकेर – गाज गिरने या बिजली चमकने की स्थिति में विशेष सावधानियों का पालन करने के लिए ग्रामीणों को सलाह देते हुए कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. बीरबल साहू ने कहा कि तेज बारिश या गरज चमक के समय किसी भी परिस्थिति में खुले स्थान में या बाहर न निकलें। वृक्ष के नीचे न रूके यदि संभव हो तो पक्के ठोस छत या पक्के मकान में रूकें। किसी भी धातु जैसे लोहा, टिन से बने छत, दरवाजे या खम्भे के समीप न रहे और न ही उन्हें छुएं। यदि खुले स्थान पर फंसे हो तो पैरों की एड़ीयों को जोड़कर कान बंदकर उखड़ू बैठ जायें, इससे प्रभाव कम पड़ता है। गर्जना के समय किसी भी प्रकार के दूरसंवेदी उपकरणों जैसे मोबाइल, टी.वी., रेडियो का उपयोग न करें। यदि किसी व्यक्ति को गाज गिरने से क्षति पहुंचती है तो प्राथमिक चिकित्सा हेतु तत्काल समीपस्थ स्वास्थ्य केन्द्र में ले जावें, किसी भी प्रकार के अंधविश्वास का सहारा न लें। किसान भाई गर्जना के समय रोपाई कार्य न करें, अन्य को भी जागरूक करें। पशुओं को वर्षा काल में बाहर चरने न छोडें, बिजली गिरने से सर्वाधिक हानि पशुओं को होती है, क्योंकि वह खुले स्थानों पर या पेड़ के नीचे सहारा लेते हैं। डॉ. बीरबल साहू ने कहा कि भारत सरकार पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय तथा भारत मौसम विज्ञान विभाग के संयुक्त तत्वाधान में दामिनी  एप  com.lightening.live.damini   विकसित किया गया है। इस एप के माध्यम से अपने क्षेत्र के 40 किलोमीटर की परिधि में आकाशीय बिजली की स्थिति के सम्बंध में जानकारी प्राप्त कर सुरक्षित रह सकते हैं। इस एप को आप अपने स्मार्ट फोन एंड्रायड मोबाइल में प्ले स्टोर के द्वारा इंस्टाल कर सकते हैं।

Show More

Support Us!

‘प्रबुद्ध जनता समाचार’ जनवादी पत्रकारिता करता है, यह संविधान, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय पर चलने वाला एक डिजिटल मीडिया है जो आपके लिए लेकर आता है तत्काल की लेटेस्ट खबरे, विचार, कहानियाँ और इसे हम तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग और लेखन के लिए हमारा सहयोग करें।

Related Articles

Back to top button